"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 2 अक्तूबर 2011

"श्यामल तन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


SHIYAMPAT
तीन टाँग के ब्लैकबोर्ड की,
मूरत कितनी प्यारी है।
कोयल जैसे काले रंग की,
महिमा जग से न्यारी है।1।

कालचक्र में बदल गया सब,
पर तुम अब भी चमक रहे हो।
विद्यालय के आसमान में, 
ध्रुवतारा बन दमक रहे हो।2।

बना हुआ अस्तित्व तुम्हारा, 
राम-श्याम बन रमे हुए हो।
विद्यालय हों या दफ्तर हों, 
सभी जगह पर जमे हुए हो।3। 

रंग-रूप सबने बदला है, 
तुम काले हो, वही पुराने। 
जग को पाठ पढ़ानेवाले, 
लगते हो जाने पहचाने।4। 

अपने श्यामल तन पर तुम, 
उज्जवल सन्देश दिखाते हो। 
बालक और बालिकाओं को, 
सूत्र सभी बतलाते हो।5। 

हिन्दी और विज्ञान-गणित, 
या अंग्रेजी के हों अक्षर। 
नन्हें सुमनों को सिखलाते, 
ज्ञान हमेशा जी भरकर।6। 

22 टिप्‍पणियां:

  1. black bord ki mahima bahut khoobsurti se ki hai.bahut sundar likha hai.meri post aapka intjaar kar rahi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ! गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ ज़बरदस्त प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर कविता...सचमुच ब्लैक बोर्ड नहीं बदला

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही अच्छी कविता ....
    पर एक बात जरुर है आज कल ज्यादातर ब्लैक बोर्ड का स्थान लैपटॉप ने ले लिया है |

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह सर, आपकी लेखनी किसी भी विषय पर एक समान उत्कृष्टता की साथ चलती है... सादर नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अथ आमंत्रण आपको, आकर दें आशीष |
    अपनी प्रस्तुति पाइए, साथ और भी बीस ||
    सोमवार
    चर्चा-मंच 656
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. श्याम-पट की निराली महिमा का गुणगान कर सबको शालेय जीवन की स्मृति दिला दी.सुंदर और मधुर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut khoob kaha hai Roopchandra ji. shyam-patt ki mahimaa bahut nyari hai, bina iske na school mein chara na baad mein guajra. achchhi rachna, badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ब्लैक बोर्ड को भी याद कर लिया गया कविता में ...
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर लगा! उम्दा प्रस्तुती!
    दुर्गा पूजा पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सरल सुबोध रोचक प्रस्तुति सौदेश्य बालकों की अभी रूचि जगाती .आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपने हिंदी ब्लॉगिंग में सरगर्म नेक और बद ताकतों को खूब पहचाना है, इसके लिए आपका शुक्रिया।

    इसी के साथ आपने नेक और साफ दिल के लोगों को एक मंच पर जमा करने में भी कामयाबी पाई है, यह बडी बात है।

    अच्छे काम वक्त के साथ अपनी अच्छाई जाहिर करते ही हैं, किसी की मुखालिफत इसके आडे न आ पाएगी,
    आपके लिंक भी अच्छे हैं लायके मुबारकबाद हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. पाट पाट पटल श्याम आखर आखर राम..,
    पाठ पाठांतर नाम करत पाठक प्रनाम.....

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails