"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 3 अक्तूबर 2011

"वो दूर हो गये हैं..." ( डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

रहते थे पास में जो, वो दूर हो गये हैं।
मगरूर थे कभी जो, मजबूर हो गये हैं।।

श्रृंगार-ठाठ सारे, करने लगे किनारे,
महलों में रहने वाले, मजदूर हो गये हैं।
मगरूर थे कभी जो, मजबूर हो गये हैं।।

थे जो कभी सरल से, अब बन गये गरल से,
जो थे कभी सलोने, बे-नूर हो गये हैं।
मगरूर थे कभी जो, मजबूर हो गये हैं।।

रहते गुमान में थे. बैठे जो शान से थे,
पर्वत से टूटकर कर वो,सब चूर हो गये हैं।
मगरूर थे कभी जो, मजबूर हो गये हैं।।

सपने हुए सयाने, सच को लगे चिढ़ाने,
अब देखकर हकीकत, काफूर हो गये हैं।
मगरूर थे कभी जो, मजबूर हो गये हैं।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार प्रस्तुति ||
    बहुत बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं



  2. डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री चाचा मयंक जी
    प्रणाम !
    ओह ! हक़ीक़त का यह भी एक चेहरा है -
    सपने हुए सयाने, सच को लगे चिढ़ाने,
    अब देखकर हकीकत, काफूर हो गये हैं।
    मगरूर थे कभी जो, मजबूर हो गये हैं।।

    गीत अच्छा है … बधाई !


    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व एवं दुर्गा पूजा की बधाई-शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही खूबसूरत.

    वो जब तलक थे जिंदा,फटका नहीं परिंदा
    रिश्ते समस्त खट्टे - अंगूर हो गये हैं.
    सम्मान हो रहा है , गुणगान हो रहा है
    मरने के बाद कितने, मशहूर हो गये हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा कलाम है।
    दूरी पर एक शेर यहां भी है,

    ज़ुबां से कहूं तो है तौहीन उनकी
    वो ख़ुद जानते हैं मैं क्या चाहता हूं
    -अफ़ज़ल मंगलौरी

    जब से छुआ है तुझको महकने लगा बदन
    फ़ुरक़त ने तेरी मुझको संदल बना दिया
    -अलीम वाजिद

    http://mushayera.blogspot.com/2011/10/blog-post_04.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर लिखा है आपने! बेहतरीन प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. फिर भी,सपने ज़रूरी हैं। कुछ पल तो हो सुकून का।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर ग़ज़ल .
    मगरूर का गुरूर तो टूट ही जाता है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. sach ki pairvi karte hue teekhe kataaksh baan chal rahe hai magar na jane nishana kaun hai.

    sunder prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अत्यंत सुंदर भाव, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर!
    विजयादशमी की शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails