"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 22 अक्तूबर 2011

"दीपकों का आ गया त्यौहार है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

दीपकों का आ गया त्यौहार है।
रौशनी की हर तरफ भरमार है।।

स्वर्णिम-रजत के पात्र और मिष्ठान का,
आज फिर से सज गया बाजार है।

शुभकामनाएँ हाट में बिकती नहीं,
किन्तु इनका हो रहा व्यापार है।

तम हटे, नफरत घटे संसार से,
राह तकता जिन्दगी का द्वार है।

आओ दीवाली मनाएँ प्यार से,
प्रीत ही सबसे बड़ा उपहार है।


(चित्र गूगल छवि से साभार)

25 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद सुन्दर ... अंतिम दो पंक्तियाँ ही जीवन का सबसे बड़ा सार है.. एक अच्छा सन्देश ... दीपावली की शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह बहुत सुन्दर संदेश देती सार्थक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ...बहुत ही बढि़या भावमय करते शब्‍दों का संगम ..।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभकामनाएँ हाट में बिकती नहीं,
    किन्तु इनका हो रहा व्यापार है।

    वाह! बहुत सुन्दर शास्त्री जी.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर संदेश देती सार्थक रचना। दीपावली की शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. sir pranam... apke panktibadh shabdo ko pad kar kafi kuch sikhane ko mila..
    abhar...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर रचना, दीवाली की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक संदेश देती रचना...दीपावली की शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  10. षड्यंत्रों का जाल रच रहे, सब दुश्मन रहे सता
    प्रेम-नगाड़ा बात बिगाड़ा, पाण्डेय रहे बता
    राधा बनी श्याम सी साँवर, पर वन्दन देत जता
    "दीपक का त्यौहार आ गया तू कर ले रूप पता

    लिंक आपकी रचना का है
    अगर नहीं इस प्रस्तुति में,
    चर्चा-मंच घूमने यूँ ही,
    आप नहीं क्या आयेंगे ??
    चर्चा-मंच ६७६ रविवार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. शास्त्री जी, प्रीत ही सबसे बड़ा उपहार,क्या खूब लिखा आपने,सन्देश देती रचना,सुंदर पोस्ट,बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  12. शुभकामनाएँ हाट में बिकती नहीं,
    किन्तु इनका हो रहा व्यापार है।
    वाह, शास्त्री जी क्या बात कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. शुभकामनाएँ हाट में बिकती नहीं,
    किन्तु इनका हो रहा व्यापार है।
    आपसे सहमत ......

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीपोंके पर्व की आपको बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ख़ूबसूरत एवं भावपूर्ण रचना!
    आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दीपावली की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढ़िया गीत सर...

    आपको सपरिवार दीपावली की बधाइयां....

    उत्तर देंहटाएं
  17. तम हटे, नफरत घटे संसार से,
    राह तकता जिन्दगी का द्वार है।
    मुबारक दीप पर्व .सुन्दर प्रस्तुति मुबारक .

    उत्तर देंहटाएं
  18. दीपावली की अग्रिम शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुन्दर गीत ..दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत हि सुन्दर संदेश!

    दिवाली कि हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails