"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 27 अगस्त 2012

"ठलवे ही ठलवे मेरे देश में हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


ठलवे ही ठलवे मेरे देश में हैं।
जलवे ही जलवे मेरे देश में हैं।।

भवन खोखला कर दिया है वतन का,
अमन-चैन छीना है अपने चमन का,
बलवे ही बलवे मेरे देश में हैं।
जलवे ही जलवे मेरे देश में हैं।।

नेताओं ने चाट ली सब मलाई,
बुराई के डर से छिपी है भलाई,
हलवे ही हलवे मेरे देश में हैं।
जलवे ही जलवे मेरे देश में हैं।।

चारों तरफ है अहिंसा का शोषण,
घर-घर में पैदा हुए हैं विभीषण,
मलवे ही मलवे मेरे देश में हैं।
जलवे ही जलवे मेरे देश में हैं।।

13 टिप्‍पणियां:

  1. नेताओं ने चाट ली सब मलाई,
    बुराई के डर से छिपी है भलाई,

    बहुत बढिया, क्या बात

    उत्तर देंहटाएं
  2. चटोरों की फ़ौज,हरतरफ खडी हो गई,
    अक्ल छोटी और भैंस बड़ी हो गई,
    चाटने को तलवे ही तलवे मेरे देश में हैं !
    जलवे ही जलवे मेरे देश में हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. sahi ye hi hai ki ''jalwe hi jalwe mere desh me hain''kyonki yahan aap jaisee pratibha ke kavi bhi to hain isliye kavita kee pahli pankti sahi nahi.nice presentation.तुम मुझको क्या दे पाओगे?

    उत्तर देंहटाएं
  4. गन्दगी के बीज फैले, धन बनी बरसात जब,
    कुकरमुत्ते फैलते हैं, कोई इनको रोक लो अब।

    उत्तर देंहटाएं
  5. खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित है जो कि खमाज थाट का
    सांध्यकालीन राग है, स्वरों
    में कोमल निशाद और बाकी स्वर शुद्ध लगते हैं,
    पंचम इसमें वर्जित
    है, पर हमने इसमें अंत में पंचम का प्रयोग भी किया
    है, जिससे इसमें राग बागेश्री भी झलकता है.
    ..

    हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर
    ने दिया है... वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है.
    ..
    my web site - फिल्म

    उत्तर देंहटाएं
  6. very nice creation,desh me thaluaaigiri ko ujaagar karti sashakt rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही खूब | आज के परिप्रेक्ष्य में सार्थक रचना |

    my recent post-"एक महान गायक की याद में..."
    आभार..|

    उत्तर देंहटाएं
  8. खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित
    है जो कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग है, स्वरों में
    कोमल निशाद और बाकी स्वर शुद्ध लगते हैं, पंचम इसमें वर्जित है, पर हमने इसमें अंत में पंचम का प्रयोग भी किया है,
    जिससे इसमें राग बागेश्री
    भी झलकता है...

    हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया
    है... वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों
    कि चहचाहट से मिलती है.
    ..
    My page ... संगीत

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails