"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 30 अगस्त 2012

"लखनऊ ब्लॉगर सम्मेलन की चित्रावली" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मित्रों !
लखनऊ और देहरादून की यात्रा से 
आज ही वापिस लौटा हूँ।
शरीर में कुछ थकान भी है 
इसलिए आज केवल चित्रावली ही 
प्रस्तुत कर रहा हूँ।
यदि सम्भव हुआ तो
कल विवरण भी लगाऊँगा!



 देहरादून के कुदरती नज़ारे
 
 और अब आ रहा है देहरादून से पहले
डोईवाला स्टेशन
 
 28-08-2012 की शाम
उत्तराखण्ड सरकार में काबीना मन्त्री
मा.यशपाल आर्य के साथ
देहरादून में मेरी पौत्री प्राची
 और ये हैं प्रियपौत्र प्रांजल
 प्रांजल और प्राची अपने पापा के साथ

 अरे वाह!
29 की दोपहर आकाश में 
बादलों की आँख-मिचौली
 शाम को हम लोग कार से घूमने भी गये।
 डॉ. नूतन डिमरी गैरौला के निवास पर
उन्हें मैंने पुस्तकें भेंट कीं।
और ये है डॉ.साहिबा का ड्राइंगरूम।
 
 अब शाम हो गई है
चलों अपने घर चलें।
 डॉ.नूतन गैरौला ने इस अवसर पर
मुझे अपना काव्यसंकल भी भेंट किया!

19 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार तस्वीरें हैं शास्त्री जी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर तस्वीरें
    लखनऊ,देहरादून
    बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय सरजी, बहुत सुंदर..!! आप बड़े भाग्यवान हैं जी, जो आपने कुदरत का सानिध्य अनुभव किया । आप को ढेरों बधाईयाँ ।

    मार्कण्ड दवे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया यात्रा हो गयी है आपकी सर जी..
    लखनऊ और देहरादून की...
    :-) :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह जी वाह.... बढ़िया फोटो ग्राफ्स... पूरे समारोह का नज़ारा हो गया....

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह शास्त्री जी क्या खूबसूरत नजारा है . ब्लागर-मिलन,परिवार-मिलन और प्रकृति-दर्शन.

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या शास्त्री जी कितना काम कर लेतें हैं आप लगन से अथक रूप ,बधाई इस चित्रावली के लिए ,इनाम पाने के लिए ,सम्मलेन में हमारी अप्रत्यक्ष शिरकत कर वादी आपने .,यहाँ भी पधारें -

    बृहस्पतिवार, 30 अगस्त 2012
    लम्पटता के मानी क्या हैं ?
    लम्पटता के मानी क्या हैं ?

    लम्पटता के मानी क्या हैं ?

    कई मर्तबा व्यक्ति जो कहना चाहता है वह नहीं कह पाता उसे उपयुक्त शब्द नहीं मिलतें हैं .अब कोई भले किसी अखबार का सम्पादक हो उसके लिए यह ज़रूरी नहीं है वह भाषा का सही ज्ञाता भी हो हर शब्द की ध्वनी और संस्कार से वाकिफ हो ही .लखनऊ सम्मलेन में एक अखबार से लम्पट शब्द प्रयोग में यही गडबडी हुई है .

    हो सकता है अखबार कहना यह चाहता हों ,ब्लोगर छपास लोलुप ,छपास के लिए उतावले रहतें हैं बिना विषय की गहराई में जाए छाप देतें हैं पोस्ट .

    बेशक लम्पट शब्द इच्छा और लालसा के रूप में कभी प्रयोग होता था अब इसका अर्थ रूढ़ हो चुका है :

    "कामुकता में जो बारहा डुबकी लगाता है वह लम्पट कहलाता है "

    अखबार के उस लिखाड़ी को क्षमा इसलिए किया जा सकता है ,उसे उपयुक्त शब्द नहीं मिला ,पटरी से उतरा हुआ शब्द मिला .जब सम्पादक बंधू को इस शब्द का मतलब समझ आया होगा वह भी खुश नहीं हुए होंगें .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    ram ram bhai

    उत्तर देंहटाएं
  8. एंटी ब्‍लॉग करप्‍शन फ्रंट31 अगस्त 2012 को 6:45 am

    खिसियानी बिल्‍ली की तरह ब्‍लॉग आयोजनों पर सवाल उठाने वाले मा0 शुकुल महाराज से निवेदन है कि पाबला जी द्वारा चर्चा में लाए गये उनके चेले के ब्‍लॉग घोटाले पर भी अपना प्रवचन देने की कृपा करें।

    चर्चित संस्था 'कैग' ने वर्धा के अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय में अनियमितता और घोटाले का पर्दाफ़ाश किया है

    यह वही हिंदी विश्वविद्यालय है जिसमें उत्तर प्रदेश के एक लेखाधिकारी, जो हिंदी ब्लॉगर भी हैं, प्रतिनियुक्ति पर आए थे लेकिन समय पूर्व ही 'भाग' खड़े हुए!

    इन्हीं के ब्लॉग को सरकारी अनुदान दिया गया और इसी विश्वविद्यालय ने सरकारी खर्चे पर ब्लॉगर बुला कर, ब्लॉगर सम्मेलन भी करवाया गया था

    http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2012-08-29/nagpur/33474958_1_special-audit-audit-report-cag

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कृपया बताने का कष्ट करें कि किसी ब्लॉग को चलाने के लिए किस प्रकार के अनुदान की आवश्यकता पड़ती है। जहाँतक मुझे पता है फिलहाल कोई भी ब्लॉग किसी अनुदान का मोहताज नहीं होता।

      हिन्दी ब्लॉग जगत के महत्व को देखते हुए यदि हिन्दी के विकास को लक्ष्य करने वाला विश्वविद्यालय कोई सेमिनार आयोजित करता है और उसमें किसी ब्लॉगर का सहयोग प्राप्त करता है तो इसमें आपत्तिजनक क्या है?

      वर्धा विश्वविद्यालय से ‘भाग’ खड़े हुए’ बहुत हास्यास्पद और शरारती टिप्पणी है। अपने लिए सही नौकरी का चुनाव करना या नौकरी बदल लेना किसी का भी निजी अधिकार है। इसपर दिमाग खर्च करने से बेहतर दूसरे कार्य हैं जो इस कथित अंटी करप्शन टीम को करना चाहिए।

      आज-कल यह ब्लॉगर बन्धु दूसरों को गुरू-चेला घोषित करने में बहुत लगे हुए हैं। बहुत अशोभनीय है यह। कृपया इसे व्यक्तिगत पसन्द तक सीमित रखना चाहें।

      हटाएं
  9. शानदार तस्वीरें हैं शास्त्री जी.

    उत्तर देंहटाएं
  10. शास्त्री जी को ईनाम के लिए बहुत-बहुत बधाई !तस्वीरों ने तो हमें भी कार्यक्रम की झलक दिखला दी। बहुत सुंदर तस्वीरें हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर चित्रावली शास्त्री जी।

    उत्तर देंहटाएं
  12. शास्त्री चाचा जी ...आपका तहे दिल शुक्रिया ..आप परिवार सहित हमारे घर में आये ... और प्रन्जुल से भी मुलाक़ात हुई ... ये चित्र मैं सहेज रही हूँ ... हां राज की बात - चित्र देख कर पता चला के इस बीच मैं कितनी मोटी हो गयी हूँ ... :))

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बढ़िया -

    चित्र चुरा रहा हूँ ।।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails