"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 3 अगस्त 2012

"केवल मक्कारी फलती है" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


गाँधी बाबा के भारत में,
केवल मक्कारी फलती है।
आजादी मुझको खलती है...

वोटों की जीवन घुट्टी पी हो गये पुष्ट हैं मतवाले,
केंचुली पहिन कर खादी की छिप गए सभी विषधर काले,
कुछ काम नही बैठे ठाले, करते है केवल घोटाले,
अब विदुर नीति तो रही नही, केवल दुर्नीति चलती है ॥
आजादी मुझको खलती है...

दानव दहेज़ का निगल चुका,कितनी निर्दोष नारियों को ,
प्रियतम का प्यार नसीब नही, कितनी ही प्राणप्यारियों को ,
फांसी खाकर मरना पड़ता, अबला असहाय क्वारियों को,
निर्धन के घर कफ़न पहन, धरती की बेटी पलती है ॥
आजादी मुझको खलती है...

निर्बल मजदूर किसानों के हिस्से में कोरे नारे हैं,
चाटुकार , मक्कारों के ही होते वारे-न्यारे हैं,
ये रक्ष संस्कृति के पोषक, जन-गण-मन के हत्यारे हैं,
सभ्यता इन्ही की बंधक बन, रोती है आँखें मलती है॥
आजादी मुझको खलती है...

मैकाले की काली शिक्षा, भिक्षा की रीति सिखाती है,
शिक्षित बेकारों की संख्या, दिन -प्रतिदिन बढती जाती है,
नौकरी उसी के हिस्से में जो नेताजी का नाती है,
है बाल अरुण बूढा-बूढा, दोपहरी ढलती जाती है॥
आजादी मुझको खलती है...

16 टिप्‍पणियां:

  1. करते हैं विश्वास, आस में जीवन के |
    हो जाता है घात, गिरे तन पर ठनके ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैकाले की काली शिक्षा, भिक्षा की रीति सिखाती है,
    शिक्षित बेकारों की संख्या, दिन -प्रतिदिन बढती जाती है,
    नौकरी उसी के हिस्से में जो नेताजी का नाती है,
    है बाल अरुण बूढा-बूढा, दोपहरी ढलती जाती है॥
    आजादी मुझको खलती है...
    यहाँ ताज़ा माल मिलता है .विचार कविता भी पैरहन लय ताल का पहने मिलती है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैकाले की काली शिक्षा, भिक्षा की रीति सिखाती है,
    शिक्षित बेकारों की संख्या, दिन -प्रतिदिन बढती जाती है...

    Very well said Shastri ji.

    .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सचमुच आज देश दिशाहीन हो रहा है..फिर भी उम्मीद रखनी चाहिए...ऊपर खुदा है..

      हटाएं
  4. सार्थक सुंदर प्रस्तुति,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  5. हब बार ताज़ा लगे है पढो तो जानो ,ये रचना शास्त्री जी की है ,अपने शास्त्री जी की ,उच्छारण वाले शास्त्री जी की .

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज की व्यवस्था का चित्रण करती बहुत सटीक प्रस्तुति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सार्थक बेहतरीन प्रस्तुति बहुत बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...
    बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!
    शुभकामनायें.


    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails