"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 2 अप्रैल 2010

“एक लाल-लाल गुलाब” (अनुवाद:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

A Red Red Rose poem
- Robert Burns
अनुवादक:
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”
लाल-लाल गुलाब
का नज़ारा

प्यार का
रंग है
बहुत प्यारा
लाल-लाल गुलाब की तरह
होता है इसका नज़ारा
जून में चहका है मधुमास
मीठी धुनों का हो रहा है आभास
मेरी बोनी सजी है
कला के मेले में,
हम खोये हैं
प्यार की गहराइयों के खेले में
समुद्र को समुद्री-गिरोह ने
सुखा दिया है
कठोर चट्टानों को
सूरज ने पिघला दिया है
लेकिन
प्रियतमा!
हमारा प्यार स्थिर रहेगा
तब तक
ये सूखा रेत चलता रहेगा
जब तक
मेरे प्यार!
मैं हजारों मील तक जाऊँगा
और
दस हजार मील से भी
वापिस आऊँगा
सिर्फ प्यार के लिए!
Robert Burns

The best-known portrait of Burns
Born : 25 January 1759
Died : 21 July 1796 (aged 37)
Dumfries, Scotland
Occupation
Poet, lyricist, farmer, excise man

9 टिप्‍पणियां:

  1. dr sahab namaskaar kripya yadi sambhav ho to mool kavita ka angreji path bhi dene ka kast karein

    sadar
    suman

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत सुन्दर! लाजवाब!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत प्यारे एहसासों की कविता का खूबसूरत अनुवाद किया है....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. दस हजार मील से भी
    वापिस आऊँगा
    सिर्फ प्यार के लिए!
    --
    अविस्मरणीय!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails