"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 16 अप्रैल 2010

“प्यार और मित्रता:Emily Bronte” (अनुवादक:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

Love and Friendship poem  :
Emily Bronte 
अनुवादक:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”
प्यार 
एक जंगली गुलाब है
लेकिन
मित्रता
एक सदाबहार पेड़ है
-- --
जंगलों के झुरमुट में
गुलाबी आभा लिए
जंगली गुलाब
खिलता है लगातार
तब ऐसा प्रतीत होता है 
मानों मधुर मधुमास
हँस रहा हो
लेकिन
ग्रीष्म आते ही
यह मुरझा जाता है
इसकी गन्ध
विलीन हो जाती है
और इसे इन्तजार रहता है
सर्दियों के आने का
यह मूर्ख सुमन
दिसम्बर आते ही
अपना शृंगार सँवारेगा
और नये प्रेमियों को
फिर से पुकारेगा
-- --
किन्तु
मित्रता के
पवित्र पेड़ की
हरी-हरी पत्तियाँ
हमेशा स्थिर रहती हैं!

Emily Brontë

AKA Emily Jane Brontë
 Born: 30-Jul-1818


Birthplace: 
Thornton, Yorkshire, England


Died: 19-Dec-1848

11 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम और मित्रता पर खूबसूरत कविता का सुन्दर अनुवाद....बहुत अच्छी लगी ये कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह …………।बहुत ही सुन्दर अनुवाद किया है.
    हर पक्ति बहुत ही सुन्दर भाव समेटे है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मित्रता के
    पवित्र पेड़ की
    हरी-हरी पत्तियाँ
    हमेशा स्थिर रहती हैं!...खूबसूरत कविता का सुन्दर अनुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आजकल बढ़िया अनुवाद चल रहा है, शास्त्री जी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. मित्रता पवित्र पेड़ की हरी हरी पत्तियां ...
    बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति ...!!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails