"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 3 अप्रैल 2010

“जीवन:Sir Walter Raleigh” (अनुवादक:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

Life"
: Sir Walter Raleigh
अनुवादक:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”
जीवन

क्या है
हमारा जीवन ?
जुनून का एक खेल
या आमोद के संगीत का
मधुर मेल
हमारा जीवन
शुरू होता है
अऩ्धेरे नगर से
माता के उदर से
जहाँ पर
अपेक्षा नही है
किसी भी मनन की
हम प्रतीक्षा करते हैं
जीवन के प्रहसन की
स्वर्ग
तेजोमय प्रकाश पुंज है
जहाँ
आफताबों का निकुञ्ज है
जो गवाही देता है
जीवन की
देखता रहता है
चुपचाप
हमारी गतिविधियों को
हमारे कब्रगाह
सूर्य से छिपाते हैं
परदे के पीछे
लेकिन
जीवन अपना खेल
खेलता रहता है
हम चलते जाते हैं
एक नये आराम की ओर
जिसका नही है
कोई ओर-छोर
और
जीवन की
उत्सुकता में
हम विलीन हो जाते हैं
अनन्त में!

Sir Walter RALEIGH, Knight

Sir Walter RALEIGH, Knight

Born: ABT 1552 / 1554, Hayes Barton, East Budleigh

Died: 29 Oct 1618

Buried: St. Margaret, Westminster, Middlesex, England

Father: Walter RALEIGH of Fardell

Mother: Catherine CHAMPERNOWNE

Married: Elizabeth THROCKMORTON 1591

Children:

1. Walter RALEIGH

2. Carew RALEIGH (Sir)

Associated with: Alice GOOLD

Children:

3. Dau. RALEIGH

10 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन को परिभाषित करती रचना. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वर्ग
    तेजोमय प्रकाश पुंज है
    जहाँ
    आफताबों का निकुञ्ज है
    जो गवाही देता है
    जीवन की
    देखता रहता है
    चुपचाप
    हमारी गतिविधियों को
    हमारे कब्रगाह
    सूर्य से छिपाते हैं
    परदे के पीछे
    लेकिन
    जीवन अपना खेल
    खेलता रहता है

    वाह ! बहुत सुन्दर शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन की
    उत्सुकता में
    हम विलीन हो जाते हैं
    अनन्त में!

    nice

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक अच्छी कविता का चयन करके
    किया गया बहुत अच्छा अनुवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर जी जीवन की हकीकत बताती हुयी

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया! अच्छा चल रहा है यह अनुवाद क्रम! जारी रखें !

    उत्तर देंहटाएं
  7. जहाँ पर
    अपेक्षा नही है
    किसी भी मनन की
    हम प्रतीक्षा करते हैं
    जीवन के प्रहसन की

    जीवन कि खूबसूरत परिभाषा....अच्छी कविता का खूबसूरत अनुवाद ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह कार्य बहुत अच्छा कर रहे हैं... धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हकीक़त को बयान करते हुए आपने बहुत ही सुन्दरता से प्रस्तुत किया है! बढ़िया रचना!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails