"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 6 अप्रैल 2010

“मृत्यु एक कविता:Death a poem by William Butler Yeats” (अनुवादक:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

Death a poem :

William Butler Yeats

अनुवादक:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”
मृत्यु एक कविता

जानवर को
नही सताता है
मृत्यु का भय
और
कभी नहीं
होता है विस्मय
उसमें
नही होता है
आशा का संचार
लेकिन आदमी को
होता है अन्तिम समय का
इन्तजार
वह सजाता है
आशाओं का संसार
और
मरता है
काव्य के लिए

कई बार
बार-बार गुलाब उगा करता है
विलियम बटलर यीट्स
के मन-उपवन में
आशाएँ साँस लेती हैं
महकते चमन में
महान व्यक्ति को
गर्व होता है

मृत्यु से
भिड़ने वाले पुरुषों पर

अपने आदर्शों पर
निर्मोक उपहासों पर
अधिक्रमित साँसों पर
वह जानता है
अस्थियाँ बनीं हैं
दफनाने के लिए
और आदमी
पैदा होता है
मर जाने के लिए
”मर जाने के लिए”

William Butler Yeats

(1865-1939) was an Irish poet and dramatist.


He won the Nobel prize


for literature in 1923.

14 टिप्‍पणियां:

  1. achhi kavita utana hi acchha anuvaad........padhavaane ke liye dhanyavaad.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर संवाद मृत्यु के साथ
    सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  3. लेकिन आदमी को
    होता है अन्तिम समय का
    इन्तजार
    वह सजाता है
    आशाओं का संसार
    और मरता है
    काव्य के लिए
    कई बार
    Sach hai aadmin ek baar nahi jindagi mein n jaane kitnee baar markar jeeta hai... ek aasha hi to hai jo use jinda rakhti hai......
    Jiwan ke katu satya yahi hai....
    Aapne bahut hi saargarbhit rachna chunkar uska anuvaad kar prastut kya iske liye aapkat bahut dhanyavaad...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर. बेहद अच्छा कार्य कर रहे हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया ! जारी रहे यह क्रम !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सही काम कर रहे हैं आप.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. कविता की एक एक पंक्ति अपने आप में एक दर्शनशास्त्र समेटे हुए कविता की एक एक पंक्ति
    सुन्दर संवाद मृत्यु के साथ
    सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  8. kin lafzon mein tarif karoon..........anuvaad kya yun laga jaise aapne hi likhi ho ......mool kavita se bhi sundar aapn eanuvaad kiya hai...........great work.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails