"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 25 मई 2010

“600वाँ पुष्प-एक पुरानी रचना” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

तन्हाई के आलम में पल-पल,
जब उनकी याद सताती है!
दिन कट जाता जैसे-तैसे,
पर रात बहुत तड़पाती है!!

गुलशन से चुराया था जिनको,
जुल्फों में सजाया था उनको,
दो दिन की जुदाई भी हमसे,
अब सहन नही हो पाती है! 
दिन कट जाता जैसे-तैसे,
पर रात बहुत तड़पाती है!!
tears-हम गम को खाते रहते हैं,
और आँसू पीते रहते हैं.
खारे अश्कों को पीने से भी,
प्यास नही बुझ पाती है!
दिन कट जाता जैसे-तैसे,
पर रात बहुत तड़पाती है!!
mirror copy दर्पण में जब देखी सूरत,
दिखलाई दी उनकी मूरत,
उनकी यह मोहक छवि हमको,
जीने की राह बताती है!
दिन कट जाता जैसे-तैसे,
पर रात बहुत तड़पाती है!!

9 टिप्‍पणियां:

  1. waah shringaar me doobi rachna...bahut achchi...aur antim chitr to bada khoobsoorat laga....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर कविता.... एहसासों से भरी हुई....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर रचना.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह शास्त्री जी बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने! चित्र के तो क्या कहने! बहुत ख़ूबसूरत चित्र!

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम गम को खाते रहते हैं,
    और आँसू पीते रहते हैं.
    खारे अश्कों को पीने से भी,
    प्यास नही बुझ पाती है!
    दिन कट जाता जैसे-तैसे,
    पर रात बहुत तड़पाती है!!
    sabse pahle 600 vi post ki hardik badhayi...........jaldi hi 1000 vi post hamein padhne ko milegi yahi kamna karti hun.
    bahut hi sundar aur bhavbhini rachna likhi hai........dil mein utarti chali gayi.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर चित्र के साथ सुन्दर रचना ....विषय कोई भी हो आपकी कविता बेहतरीन ही होती है .....प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी कविता।
    बहुत बहुत बधाई ! अनन्त शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails