"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 7 मई 2010

"कभी कुछ नही बचेगा : Percy Bysshe Shelley " (अनुवाद-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

Oh Never More : Percy Bysshe Shelley
अनुवाद-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"  
ओ संसार!
ओ जीवन!
ओ समय!
जो भी तुम्हारी
अन्तिम सीढ़ी पर चढ़ा
वो कँपकपाया
जो पहले से ही
यहाँ पर विद्यमान था
जब वह लौटेगा
अपनी सर्वोच्च महिमा पर
तब कुछ नही बचेगा
कभी नहीं कुछ बचेगा

रात और दिन
गुजरते जायेंगे
खुशियाँ उड़ जायेंगी
ताजा बसन्त,
गर्मियाँ और सर्दियाँ
मेरे दुखी दिल को
खुशी से
छोड़ जायेंगी
और 
कुछ नही बचेगा
कभी भी कुछ नही बचेगा!
Percy Bysshe Shelley
1792–1822

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया सर .............आज कल आप पूरे mood में है !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ye aap bahut badhiya kaam kar rahe hain..
    atyant sundar...
    aabhaar..

    उत्तर देंहटाएं
  3. रात और दिन
    गुजरते जायेंगे
    खुशियाँ उड़ जायेंगी

    बहुत सुन्दर भावानुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो भी तुम्हारी
    अन्तिम सीढ़ी पर चढ़ा
    वो कँपकपाया
    जो पहले से ही
    यहाँ पर विद्यमान था


    हर पंक्ति एक विशेष भाव को समेटे हुए है...बहुत सुन्दर अनुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. जब पूर्णता मे समा जाते हैं तो कुछ नही बचता…………बहुत बढिया अनुवाद्।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर भाव के साथ आपने बढ़िया अनुवाद किया है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो भी तुम्हारी
    अन्तिम सीढ़ी पर चढ़ा
    वो कँपकपाया

    शब्दों का सुन्दर चयन

    उत्तर देंहटाएं
  8. Shashtri ji ke anuwaad kiye hue har lafz ki chor [akadte hue main zindagi ki us chor ka aks dekh paati hoo. shabdon ki sashakta, lajawaab
    sadar

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails