"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 17 मई 2010

“गरल ही गरल” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

अब हवाओं में फैला गरल ही गरल।
क्या लिखूँ ऐसे परिवेश में मैं गजल।।


गन्ध से अब, सुमन की-सुमन है डरा
भाई-चारे में, कितना जहर है भरा,
वैद्य ऐसे कहाँ, जो पिलायें सुधा-
अब तो हर मर्ज की है, दवा ही अजल।
क्या लिखूँ ऐसे परिवेश में मैं गजल।।


धर्म की कैद में, कर्म है अध-मरा,
हो गयी है प्रदूषित, हमारी धरा,
पंक में गन्दगी तो हमेशा रही-
अब तो दूषित हुआ जा रहा, गंग-जल।
क्या लिखूँ ऐसे परिवेश में मैं गजल।।


आम, जामुन जले जा रहे, आग में,
विष के पादप पनपने, लगे बाग मे,
आज बारूद के, ढेर पर बैठ कर-
ढूँढते हैं सभी, प्यार के चार पल।

क्या लिखूँ ऐसे परिवेश में मैं गजल।।


आओ! शंकर, दयानन्द विष-पान को,
शिव अभयदान दो, आज इन्सान को,
जग की यह दुर्गति देखकर, हे प्रभो!
नेत्र मेरे हुए जार हे हैं, सजल ।
क्या लिखूँ ऐसे परिवेश में मैं गजल।

18 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन रचना

    http://madhavrai.blogspot.com/

    http://qsba.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. माना बहुत ज्यादा है गरल
    पर इसको करना है तरल
    इसलिये शास्त्री जी आपको
    लिखनी ही पड़ेगी गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्तमान परिवेश में हो रहे बदलावों की सशक्त अभिव्यक्ति आपकी गजल में हुई है.......श्रेष्ठ लेखन हेतु बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाई-चारे में, कितना जहर है भरा,
    धर्म की कैद में, कर्म है अध-मरा,
    गरल ही गरल भरा ...
    वर्तमान समय को उकेरा है आपने अपनी कविता में ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. धर्म की कैद में, कर्म है अध-मरा,
    हो गयी है प्रदूषित, हमारी धरा,
    पंक में गन्दगी तो हमेशा रही-
    अब तो दूषित हुआ जा रहा, गंग-जल।
    क्या लिखूँ ऐसे परिवेश में मैं गजल।।

    ...सार्थक,यथार्थ प्रस्तुति के लिए धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut khoob Albela ji ne bhi achcha likha kuch aisa hi...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आओ! शंकर, दयानन्द विष-पान को,
    शिव अभयदान दो, आज इन्सान को,
    जग की यह दुर्गति देखकर, हे प्रभो!
    नेत्र मेरे हुए जार हे हैं, सजल ।
    क्या लिखूँ ऐसे परिवेश में मैं गज़ल...

    बहुत सुन्दर भाव....सच को उजागर करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. सार्थक,यथार्थ प्रस्तुति के लिए धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. Waah....Bahut hi sundar aur sarthak rachna...
    Bahut bahut sundar...

    उत्तर देंहटाएं
  10. शिव अभयदान दो, आज इन्सान को,
    उत्तम आलेख

    उत्तर देंहटाएं
  11. श्रीकृष्ण जोशी 'नक़्शे नवीस' प्रसिद्ध साहित्यकार एवं व्यंगकार 'पद्मश्री' स्व. श्री शरद जोशी के ताउजी थे| श्री शरद जोशी बचपन से ही अपने ताउजी की काव्य एवं साहित्य के प्रति साधना में काफी रूचि रखते थे जिसे उन्होंने कालांतर में अपने जीवन में संचरित करते हुवे हिन्दी साहित्य की और प्रेरितहुवे और अपनी जीवन रेखा के रूप में अंगीकार किया|
    स्व. श्रीकृष्ण जोशी 'नक़्शे नवीस' की रचनायें को पढ़कर यह आभास होता है कि वे हिन्दी साहित्य के एक ऐसे सूर्य हैं जिसका आलोक सदैव हिन्दी जगत् को प्रकाशवान करता रहेगा।
    निवेदन है कि, निम्नांकित ब्लॉग को पढ़ें व् अपनी टिप्पणी से अवगत करावें.
    http://shreekrishnajoshi.blogspot.com/
    Blogger: Akhilesh S Joshi
    Grandson of Shreekrishna Joshi 'Nakshe Navees'

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails