"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 6 मार्च 2012

‘‘हमने कभी नहीं बिसराया है’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


होली हो या नयासाल हो, क्रिसमस-ईद-दिवाली हो।
रक्षाबन्धन-प्रेमदिवस हो, या तीजो हरियाली हो।।

भारत की ऋतुओं को मैंने कभी नहीं बिसराया है।
अपनी तुकबन्दी में मैंने सबको जमकर गाया है।।

हँसता-गाता बचपन, नन्हे सुमन मुझे भाते हैं।
रोज नया कुछ लिखने की ये मन में चाह जगाते हैं।।

श्यामल गइया, उल्लू-मछली, कम्प्यूटर, गांधी-टोपी।
नहीं किसी को छोड़ा अबतक, मिला विषय मुझको जो भी।।

कॉफी-चाय, शराब-सिलिण्डर, या कौओं का जोड़ा हो।
गदहा बोझा ढोता हो या सरपट घोड़ा दौड़ा हो।।

बीती यादों को भी मैंने, आलेखों में जोड़ा है।
मेले-त्यौहारों का मैंने, मोह कभी ना छोड़ा है।।

नहीं जानता कैसे प्रतिदिन, नया सृजन हो जाता है।
नहीं जानता कौन व्योम से रचनाएँ लिखवाता है।।

मातु शारदे का मैं पल-प्रतिपल वन्दन करता हूँ।
उनकी चरणधूलि का चन्दन माथे पर धरता हूँ।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. नहीं जानता कैसे प्रतिदिन, नया सृजन हो जाता है।
    नहीं जानता कौन व्योम से रचनाएँ लिखवाता है।।

    मां शारदा की कृपा आप पर यूँ ही सदा बनी रहे...

    आपकी होली शुभ हो..
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया सर जी,,,
    हर पंक्ति लाजवाब है..
    सच में विषयो का तो खजाना है आपके पास.
    माता सरस्वती की कृपा आप पर सदा रहे...
    बेहतरीन रचना...
    होली पर्व कि आपको हार्दिक शुभकामनाएँ ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. नहीं जानता कैसे प्रतिदिन, नया सृजन हो जाता है।
    नहीं जानता कौन व्योम से रचनाएँ लिखवाता है।।
    शास्त्री जी, आप जिस विषय पर भी लिखते हैं उसमें आपके तेवर की खुशबू बसी होती है !
    आपको पढ़ना अच्छा लगता है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर पंक्ति लाजवाब है|होली पर्व कि आपको हार्दिक शुभकामनाएँ |

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह ………उम्दा प्रस्तुति………होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना !
    होली की ढेर सारी शुभकामनायें !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही बढ़िया सर!

    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. हँसता-गाता बचपन, नन्हे सुमन मुझे भाते हैं।
    रोज नया कुछ लिखने की ये मन में चाह जगाते हैं।।
    ....सच कहा आपने प्रेरक है यह सब..
    आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्छी प्रस्तुति,सुंदर भाव अभिव्यक्ति....
    माँ शारदे की कृपा बनी रहे,निरंतर इसी तरह लिखते रहे,....
    होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...रंग रंगीली होली आई,

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बेहतरीन और सार्थक रचना,
    इंडिया दर्पण की ओर से होली की अग्रिम शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. maa sarasvati ki anukampa aap par isi tarah bani rahe aur ek se badhkar ek aap likhte rahe.shandar prastuti.holi ki shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  12. माँ शारदा हम सभी को अपना प्रसाद देती रहें ,
    आपके स्वरों के साथ मेरा भी नत-शिर वंदन!

    उत्तर देंहटाएं
  13. हम भी आते रहेंगे पढने ,हमने कब क्या छोड़ा है ,

    होली हो या होला हो ,पूरा कुनबा जोड़ा है .

    उत्तर देंहटाएं
  14. बीती यादों को भी मैंने, आलेखों में जोड़ा है।
    मेले-त्यौहारों का मैंने, मोह कभी ना छोड़ा है।।

    हम भी आते रहेंगे पढने ,हमने कब क्या छोड़ा है ,

    होली हो या होला हो ,पूरा कुनबा जोड़ा है .
    हम भी आते रहेंगे पढने ,हमने कब क्या छोड़ा है ,

    होली हो या होला हो ,पूरा कुनबा जोड़ा है .

    हार्दिक शुभकामनाएं होली की ,मुबारक होली की .सेहत मन्द रहें होली में .

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाकई, आपसे कोई भी विषय नहीं छूटा है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. श्यामल गइया, उल्लू-मछली, कम्प्यूटर, गांधी-टोपी।
    नहीं किसी को छोड़ा अबतक, मिला विषय मुझको जो भी।।
    आपने तो मेरे मन की बातों को काव्य रूप दे दिया है। यह जो लिस्ट आपने दिया है, वह अनंत है, और यह बात तो हम शुरू से ही कहते आ रहे हैं। लैपटॉप अब तक याद है मुझे ...:)

    उत्तर देंहटाएं
  17. माँ सरस्वती की कृपा है ... जो आप इतना सुन्दर काव्य रच लेते हैं ... नमस्कार शास्त्री जी ...
    आपको और परिवार में सभी को होली की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपको सपरिवार होली की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails