"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 16 मार्च 2012

"उलझ गए हैं ताने-बाने" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


कहाँ गये वो मीत पुराने।
किसे सुनाऊँ नए तराने?
जीवन की आपाधापी में,
उलझ गए हैं ताने-बाने।।

छूट गए हैं सभी सहारे,
राख बन गए अब अंगारे,
भावों की बहती गंगा में,
खोज रहा हूँ नये ठिकाने।
जीवन की आपाधापी में,
उलझ गए हैं ताने-बाने।।

इस दुनिया की अजब कहानी,
चार दिनों का खेल जवानी,
बचपन-यौवन और बुढ़ापा,
सब लगते जाने-पहचाने।
जीवन की आपाधापी में,
उलझ गए हैं ताने-बाने।।

सूख गई है डाली-डाली,
पीत बन गई है हरियाली,
पात झड़ गये सभी सुहाने।
जीवन की आपाधापी में,
उलझ गए हैं ताने-बाने।।

उड़ने को तो छोर नहीं हैं,
मगर हाथ में डोर नहीं है,
पतंग सलोनी कट जाने पर,
गिरी धरा पर चारों-खाने।
जीवन की आपाधापी में,
उलझ गए हैं ताने-बाने।।

34 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।
    wah.....ekdam kadi sachchayee,bahot umda.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. उड़ने को तो छोर नहीं हैं,
    मगर हाथ में डोर नहीं है,
    पतंग सलोनी कट जाने पर,
    गिरी घरा पर चारो-खाने।

    बहुत बहुत सुन्दर...
    खूबसूरत प्रवाहमयी रचना है सर ...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।
    आपने सही कहा ..........
    खुबशुरत सुंदर रचना,........

    उत्तर देंहटाएं
  4. ताना-बाना से क्यूँ ताना, मार रहे हैं गुरुवर ।

    ताना ना बाना पर सोहे, जो धारे हैं तनपर ।

    हम सब के श्रद्धेय गुरूजी, शाश्वत-सत्य से वाकिफ -

    ज्ञान लुटाएं राह दिखाएँ, करे निवेदन रविकर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. किसे सुनाऊँ नए तराने?कहाँ गये वो मीत पुराने।कहाँ गये वो मीत पुराने।
    किसे सुनाऊँ नए तराने?
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।कहाँ गये वो मीत पुराने।
    किसे सुनाऊँ नए तराने?
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।
    किसे सुनाऊँ नए तराने?
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।
    जीवन की आपाधापी में,कहाँ गये वो मीत पुराने।
    किसे सुनाऊँ नए तराने?
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।कहाँ गये वो मीत पुराने।कहाँ गये वो मीत पुराने।
    किसे सुनाऊँ नए तराने?
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।
    किसे सुनाऊँ नए तराने?आज
    जीवन की आपाधापी में,आज
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।आज
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।

    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहाँ गये वो मीत पुराने।
    किसे सुनाऊँ नए तराने?
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।


    आज तो आपने ज़िन्दगी की सच्चाइयों को बेहद खूबसूरती से उकेरा है सीधा दिल पर वार किया है आपकी रचना ने ………आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  7. kripaya pahla comment hata dein wo main copy paste kar rahi thi to dikh hi nahi raha tha har bar blank page hi dikh raha tha magar publish karne par ho gaya .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब जब आपने कमेंट में कह ही दिया है तो हटाने से क्या फायदा?

      हटाएं
  8. जीवन की सच्चाइयों को उकेरती सुंदर काव्यमयी प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  9. Hello you can add our blogs on your blog if you agree so please add our Rss on your blog

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर शब्द प्रवाह ...
    यादों ली ...एक टीस से भरी रचना ...!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर

    किसको अपने गीत सुनाऊं
    सारा जग बहरा लगता है,.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया दादू.....
    अब कैसे सुलझें.....????
    इसी उधेड़-बुन में हैं...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बढ़िया दादू.....
    अब कैसे सुलझें.....
    इसी उधेड़-बुन में हैं...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुंदर शास्त्री जी..

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस उलझन को धीरे धीरे हम सुलझाते जायें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. पतंग सलोनी कट जाने पर,
    गिरी धरा पर चारों-खाने।
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।
    ..sach uljhan ke taane-baane se nikalna behad mushkil kaam hai.. badiya sarthak yatharth prastuti..

    उत्तर देंहटाएं
  17. मनुष्य-जीवन की यही कहानी है...बल्कि सच्चाई है!

    उत्तर देंहटाएं
  18. तराना अगर नया है तो वह पुराने लोगों को पसंद आने की संभावना कम है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. कहाँ गए वो मीत पुराने ..किसे सुनाऊ नए तराने .... कितना कटु दर्द भरा सत्य है .. इसी कड़वाहट को पीते हुवे हमें जीना होता है ... यही मनुष्य जीवन की कहानी है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. जीवन की आपाधापी में सब कुछ गुजर गया और जब बैठे फुरसत में तो ये याद आया और सबको साझी बना लिया . बहुत बड़ा और हर जीवन का सच यही है जिसे अपने अपनी कलम से कह दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  21. भावों की बहती गंगा में,
    खोज रहा हूँ नये ठिकाने।
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।

    जीवन की एक कटु सच्चाई बयां करती बहुत सुन्दर प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस दुनिया की अजब कहानी,
    चार दिनों का खेल जवानी,
    बचपन-यौवन और बुढ़ापा,
    लगते हैं जाने-पहचाने।
    जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।
    ये जीवन एक रिहर्सल है .एक नाटक है, एक प्रहसन ,है कभी कभी यह प्रकरी भी ,पर ,.न तेरा है न मेरा है ,सब चिड़िया रैन बसेरा है . बेहतरीनरी गीत सांगीतिक ध्वनी सौन्दर्य और नाद लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  23. जीवन की आपाधापी में सबकुछ छुटता जाता है ..
    बहुत सुन्दर बात ,बेहतरीन रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत प्रभावशाली रचना है और गेय भी.

    उत्तर देंहटाएं
  25. bahut he sundar prastuti sastri ji ,,,,
    http://jadibutishop.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत खूब लिखा है इस रचना के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  27. ये उलझनें हर एक की ज़िंदगी मेन हैं और जीवन की आपाधापी में बहुत कुछ छूटता जाता है ॥सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  28. जीवन की आपाधापी में,
    उलझ गए हैं ताने-बाने।।

    सच है !!

    उत्तर देंहटाएं
  29. चार दिनों का खेल जवानी,
    बचपन-यौवन और बुढ़ापा,
    लगते हैं जाने-पहचाने।
    बहुत सुंदर .........

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails