"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 9 मार्च 2012

"अंक है धवल-धवल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


अंक है धवल-धवल।
पंक में खिला कमल।।

हाय-हाय हो रही,
गली-गली में शोर है,
रात ढल गई मगर,
तम से भरी भोर है,
बादलों में घिर गया,
भास्कर अमल-धवल।
अंक है धवल-धवल।
पंक में खिला कमल।।

पर्वतों की चोटियाँ,
बर्फ से गयीं निखर,
सर्दियों के बाद भी,
शीत की चली लहर,
चीड़-देवदार आज,
गीत गा रहे नवल।
अंक है धवल-धवल।
पंक में खिला कमल।।

चाँदनी लिए हुए,
चाँद भी डरा-डरा,
पादपों ने खो दिया
रूप निज हरा-भरा,
पश्चिमी लिबास में,
रूप खो गया सरल।
अंक है धवल-धवल।
पंक में खिला कमल।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर लयबद्ध कविता...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sundar kavita aaj kal fir se sachmuch shreenagar me bhari barfbaari ho rahi hai...atah thand laut ke aa rahi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके इधर तो कमल के ऊपर पंजा छा गया. बढ़िया गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  4. पर्वतों की चोटियाँ,
    बर्फ से गयीं निखर,
    सर्दियों के बाद भी,
    शीत की चली लहर,
    चीड़-देवदार आज,
    गीत गा रहे नवल।
    अंक है धवल-धवल।
    पंक में खिला कमल।।
    रूप निज हरा-भरा,
    पश्चिमी लिबास में,
    बहुत बढ़िया .स्प्रिंग की आहत लिएशाष्त्री जी आये

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर .धवल कमल सी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया रचना शास्त्री जी ! शायद कहीं पर निशाना भे साध रही है :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. puri rachna prashansaniye aur madhur. ise gungunana bahut achchha laga...
    चाँदनी लिए हुए,
    चाँद भी डरा-डरा,
    पादपों ने खो दिया
    रूप निज हरा-भरा,
    पश्चिमी लिबास में,
    रूप खो गया सरल।
    अंक है धवल-धवल।
    पंक में खिला कमल।।
    badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. चाँदनी लिए हुए,
    चाँद भी डरा-डरा,
    पादपों ने खो दिया
    रूप निज हरा-भरा,

    .....बहुत सुंदर भाव और उनकी अद्भुत प्रवाहमयी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. श्वेत वसन जब धरा ओढ़ती,
    शुभ्र छटा लहरा जाती है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. .बहुत सुंदर भाव श्वेत वसन जब धरा ओढ़ती,
    शुभ्र छटा लहरा जाती है..
    बढ़िया प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर भाव .....बहुत सुंदर प्रस्तुति !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. श्वेत की शुभ्रता शेष सबका समायोजन है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीवन की सरलता पश्चिमी लिबास में खोई है - एक नया दर्शन! सुन्दर लयबद्ध भाव

    उत्तर देंहटाएं
  14. पश्चिमी लिबास में रूप खो गया सरल ...
    बेहतरीन !

    उत्तर देंहटाएं
  15. पश्चिमी लिबास में,
    रूप खो गया सरल।
    वाह! सर... सुन्दर गीत....
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  16. पंक में खिला कमल, बड़ी सशक्‍त रचना है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails