"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 19 मार्च 2012

"♥ दिवस सुहाने आने पर ♥" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

धरा के रंग (काव्य संग्रह)
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
खटीमा (उत्तराखण्ड) पिन-262 308
सम्पर्क-9997996437
प्रकाशक-आरती प्रकाशन
लालकुआँ (नैनीताल)
मूल्यः150 रुपये
 
मित्रों! आज प्रस्तुत कर रहा हूँ
अपनी इस काव्य पुस्तिका से एक गीत!
दिवस सुहाने आने पर
अनजाने अपने हो जाते,
दिवस सुहाने आने पर।
सच्चे सब सपने हो जाते,
दिवस सुहाने आने पर।।

सूरज की क्या बात कहें,
चन्दा जब आग उगलता हो,
साथ छोड़ जाती परछाई,
गर्दिश के दिन आने पर।

पानी से पानी की समता,
कीचड़ दाग लगाती है,
साज और संगीत अखरता,
सुर के गलत लगाने पर।

दूर-दूर से अच्छे लगते,
वन-पर्वत, बहतीं नदियाँ,
कष्टों का अन्दाज़ा होता,
बाशिन्दे बन जाने पर।

हर पत्थर हीरा नहीं होता,
पाषाणों की ढेरी में,
सोच-समझकर अंग लगाना,
रत्नों को पा जाने पर।

जो सुख-दुख में सहभागी हों,
वो किस्मत से मिलते हैं,
स्वर्ग नर्क सा लगने लगता,
मन का मीत न पाने पर।

अनजाने अपने हो जाते,
दिवस सुहाने आने पर।
सच्चे सब सपने हो जाते,
दिवस सुहाने आने पर।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. सबकुछ अनुकूल हो जाता है....दिवस सुहाने आने पर!...बहुत सुन्दर रचना मेरे सामने है!...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभकामनाएं ।।



    नई पुस्तक की झलक

    दिखलाने के लिए आभार ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दूर-दूर से अच्छे लगते,
      वन-पर्वत, बहतीं नदियाँ,
      कष्टों का अन्दाज़ा होता,
      बाशिन्दे बन जाने पर।

      हटाएं
  3. वाह...बहुत सुन्दर...

    हर पत्थर हीरा नहीं होता,
    पाषाणों की ढेरी में,
    सोच-समझकर अंग लगाना,
    रत्नों को पा जाने पर।

    बधाई......

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! बहुत सुंदर और सार्थक प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच कहा आपने, अनुभवजन्य सत्य है यह।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Jivan jine ke naye andaj jb bhi janane ho aapke blog par bjate haen.aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दूर-दूर से अच्छे लगते,वन-पर्वत, बहतीं नदियाँ,कष्टों का अन्दाज़ा होता,बाशिन्दे बन जाने पर।

    खासकर पर्वतीय जीवन पर सटीक !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही खुबसूरत और सार्थक प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन सटीक रचना,......

    MY RESENT POST... फुहार....: रिश्वत लिए वगैर....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बंग्‍लादेश से हारकर भारत ने यह साबित किया कि सचिन का शतक किसी कमजोर टीम के खिलाफ नहीं बना......!!!!!!

    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्पिणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर गीत ... नयी पुस्तक के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही बढि़या ...बधाई सहित शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच्चे सब सपने हो जाते,
    दिवस सुहाने आने पर।।

    बहुत सुन्दर गीत सर...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  14. नयी पुस्तक के लिए कोटिश: बधाई !

    सुन्दर...मर्मस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut hi sunder kriti hi hume apne jeevan ke kisi bhi ichha ko itni mahhta nhi deni chahiye ki uske poora na hone se hum jeevan ke priti apne kritavya hi bhool jaye

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails