"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 5 मई 2012

"मेरे चित्र! मेरे भाव!! हाइगा में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरे चित्रों पर आधारित भाव
(हाइगा)
(१)
 (२)
 (३)
 (४)
 (५)
(6)

25 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया चित्र हाइगा, शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर भाव ... और सुंदर प्रस्तुति ....

    इन्हे हाईगा कह सकते हैं या नहीं यह विचारणीय है ..... क्यों कि अभी तक यही पता चला था कि जब हाइकु को चित्र के ऊपर लिखा जाता है उसे हाईगा कहते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर चित्र और गजब के भाव और कथन

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर................
    संगीता जी आप सही कह रही हैं............

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर भाव संजोये हैं .....
    मुबारक हो!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाइकू को चित्र ऊपर लिखे जाने पर हाइगा कहलाता है
    संगीता जी आप सही कह रही है,...

    फिर भी सार्थक भाव लिए लाजबाब प्रस्तुति,..

    MY RECENT POST .....फुहार....: प्रिया तुम चली आना.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर चित्रों द्वारा...यथार्थ की सुन्दर प्रस्तुति!..लेकिन 'हायगा'?

    उत्तर देंहटाएं
  8. बढ़िया प्रस्तुति!
    इस पोस्ट के लिए आपका बहुत बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  9. चित्रमय हाइगा बेहद शानदार हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. यह तो पता नहीं कि मेरे भाव हाइगा हैं या नहीं परन्तु जो मेरे दिल में आया वही लिख दिया।
    आप सबका आभार कि आपने इनको पसन्द किया।
    फिर भी हिन्दी विधा में ये हिन्दुस्तानी हाइगा तो हो ही सकते हैं, यानि हिन्दी हाइगा।
    जहाँ तक मेरी समझ है उसके अनुसार तो चित्रों पर लिखे गए भाव हिन्दी हाइगा तो कहे ही जा सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर भाव संजोए हैं इन चित्रों में...सुंदर चित्र कविता !!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर यथार्थ चित्रमय हाइगा...
    सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  13. अब आप हैगा के नज़दीक पहुँच रहें हैं .हैगा का खोया हुआ सन्दर्भ आपने तलाशा है .हईगा एक न्युनोक्ति है .....कृपया यहाँ भी पधारें -

    उत्तर देंहटाएं
  14. अब आप हैगा के नज़दीक पहुँच रहें हैं .हैगा का खोया हुआ सन्दर्भ आपने तलाशा है .हईगा एक न्युनोक्ति है .....कृपया यहाँ भी पधारें -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_7883.html
    स्कूल में चरस और गांजा ,भुगतोगे भाई, खामियाजा

    उत्तर देंहटाएं
  15. अब आप हैगा के नज़दीक पहुँच रहें हैं .हैगा का खोया हुआ सन्दर्भ आपने तलाशा है .हईगा एक न्युनोक्ति है .....कृपया यहाँ भी पधारें -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_7883.html
    स्कूल में चरस और गांजा ,भुगतोगे भाई, खामियाजा

    उत्तर देंहटाएं
  16. चित्र के आधार पर उपजे विचार बहुत सटीक |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  17. चाहे कोई हो विधा, मन में उठी तरंग
    सहज भाव सुंदर लगे हैं चित्रों के संग.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails