"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 15 मई 2012

"समय का कुटिल-चक्र" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


आज समय का, कुटिल-चक्र चल निकला है।
संस्कार का दुनिया भर में, दर्जा सबसे निचला है।।

नैतिकता के स्वर की लहरी, मंद हो गयी।
इसीलिए नूतन पीढ़ी, स्वच्छन्द हो गयी।।

अपनी ग़लती को कोई स्वीकार नहीं करता है।
दोष स्वयं के, सदा दूसरों के माथे पर धरता है।।

सबके अपने नियम और सबका अन्दाज़ निराला है।
इसीलिए हर नेता के मुँह पर लटका इक ताला है।।

पत्रकार का मतलब था, निष्पक्ष और विद्वान-सुभट।
नये जमाने में इसकी, परिभाषाएँ सब गई पलट।।

नटवर लाल मीडिया पर, छा रहे बलात्-बाहुबल से।
गाँव शहर का छँटा हुआ, अब जुड़ा हुआ है चैनल से।।

गन्दे नालों और नदियों की, बहती है अविरल धारा।
न्हाने वाले पर निर्भर है, उसको क्या लगता प्यारा??

17 टिप्‍पणियां:

  1. अपनी ग़लती को कोई स्वीकार नहीं करता है।
    दोष स्वयं के, सदा दूसरों के माथे पर धरता है।………सत्य वचन ………सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. नैतिकता के स्वर की लहरी, मंद हो गयी।
    इसीलिए नूतन पीढ़ी, स्वच्छन्द हो गयी।।

    बहुत बढ़िया रचना सर...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया सर...............
    विचारणीय रचना.

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. त्वरित टिप्पणी से सजा, मित्रों चर्चा-मंच |
    छल-छंदी रविकर करे, फिर से नया प्रपंच ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  5. नैतिकता के स्वर की लहरी, मंद हो गयी।
    इसीलिए नूतन पीढ़ी, स्वच्छन्द हो गयी।।
    बहुत ही सटीक रचना, वाह !!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के जीवन का यथार्थ चित्रण..........

    उत्तर देंहटाएं
  7. नैतिकता के स्वर की लहरी, मंद हो गयी।
    इसीलिए नूतन पीढ़ी, स्वच्छन्द हो गयी।।
    vaah vaah vaah....lajabaab

    उत्तर देंहटाएं
  8. समय की बलिहारी है,हम पुरानी पीढ़ी को ये सब अनपेक्षित लगता है.आपने छंदों में इस स्वछंदता को बांधा है अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनी ग़लती को कोई स्वीकार नहीं करता है।
    दोष स्वयं के, सदा दूसरों के माथे पर धरता है।।
    Sachaa aur talkh sachhai ko likha hai ... Aaj apni galti koi nahi dekhna chahta ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. गन्दे नालों और नदियों की, बहती है अविरल धारा।
    न्हाने वाले पर निर्भर है, उसको क्या लगता प्यारा??
    बहुत बढ़िया रचना सर...
    SVACHHANDTAA KO BHI AAPNE CHHND BADDH KAR DIYAA VAAH .
    PARIVAAR DIVAS MUBAARAK .

    उत्तर देंहटाएं
  12. समय का कुटिल चक्र लेख बहुत पशन्‍त आया अपने जो आपकल की कलुषित को आपने जो सभी के सामने उसके लिये धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. उल्टी धारा अभी बह रही,
    अंधों के आघात सह रही।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails