"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 23 मई 2012

"शिव का डमरू बन जाऊँगा" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


जो मेरे मन को भायेगा,
उस पर मैं कलम चलाऊँगा।
दुर्गम-पथरीले पथ पर मैं,
आगे को बढ़ता जाऊँगा।।

मैं कभी वक्र होकर घूमूँ,
हो जाऊँ सरल-सपाट कहीं।
मैं स्वतन्त्र हूँ, मैं स्वछन्द हूँ,
मैं कोई चारण भाट नहीं।
कहने से मैं नहीं लिखूँगा,
गीत न जबरन गाऊँगा।
दुर्गम-पथरीले पथ पर मैं,
आगे को बढ़ता जाऊँगा।।

भावों की अविरल धारा में,
मैं डुबकी खूब लगाऊँगा।
शब्दों की पतवार थाम,
मैं नौका पार लगाऊँगा।
घूम-घूम कर सत्य-अहिंसा
 की मैं अलख जगाऊँगा।
दुर्गम-पथरीले पथ पर मैं,
आगे बढ़ता जाऊँगा।।

चाहे काँटों की शय्या हो,
या नर्म-नर्म हो सेज सजे।
सारंगी का गुंजन सुनकर,
चाहे ढोलक-मृदंग बजे।
अत्याचारी के दमन हेतु,
शिव का डमरू बन जाऊँगा।
दुर्गम-पथरीले पथ पर मैं,
आगे बढ़ता जाऊँगा।।

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रेरक रचना!...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावों की अविरल धारा में,
    मैं डुबकी खूब लगाऊँगा।
    शब्दों की पतवार थाम,
    मैं नौका पार लगाऊँगा।
    घूम-घूम कर सत्य-अहिंसा
    की मैं अलख जगाऊँगा।
    दुर्गम-पथरीले पथ पर मैं,
    आगे बढ़ता जाऊँगा।।
    Bahut shaandar !

    उत्तर देंहटाएं
  4. शीर्ष कैबिनेट ब्रह्म का, पञ्च मुखी हैं माथ ।

    चार देवता पक्ष के, नहीं पांचवा साथ ।


    नहीं पांचवा साथ, सदा पूंजी-पति राक्षस ।
    देता टांग अड़ाय, होय अच्छा बिल वापस ।

    शंकर से फिर बोल, छुडाओ मारक राकेट ।
    कटे गधे का शीश, ठीक हो शीर्ष कैबिनेट ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ...बहुत ही बढि़या भाव संयोजित किये हैं आपने ..आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अत्याचारी के दमन हेतु,
    शिव का डमरू बन जाऊँगा।


    इन सुंदर और दृढ निश्चयी पंक्तियों में छुपे संकल्प के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छे भाव सुन्दर संकल्प ,आज कल के पापियों का नाश करने के लिए तो शिव का डमरू बहुत जरूरी है

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह...
    बहुत सुंदर.....
    आज बहुत ज़रूरत है किसी शिव के तांडव की......

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत जोशीले नजर आ रहे हैं
    सीधे शिव का डमरू ही बजा रहे हैं।
    वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. शिव का डमरू बन जाऊँगा।
    दुर्गम-पथरीले पथ पर मैं,
    आगे बढ़ता जाऊँगा।।
    बहुत सुन्दर रचना..
    सुन्दर प्रस्तुति:-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. घूम-घूम कर सत्य-अहिंसा
    की मैं अलख जगाऊँगा।
    sundar bhaav ..!

    उत्तर देंहटाएं
  13. घूम-घूम कर सत्य-अहिंसा
    की मैं अलख जगाऊँगा।

    बहुत सुंदर भाव ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी पोस्ट 24/5/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा - 889:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी कल्पना शक्ति और भावपूर्ण लेखन को बार बार नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सार्थक विचार ...
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  17. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

    आओ धक्का मार के, महंगा है पेट्रोल ||

    --

    शुक्रवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails