"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 19 मई 2012

"उलझ गया है ताना-बाना" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


रचना रचना बहुत सरल है,
मुश्किल है पुस्तक छपवाना।
रिश्ते रखना बहुत सरल है,
मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

मैदानों में रहने वाले,
ऊँचे पर्वत नहीं चढ़ेंगे।
उपवन में मस्ताने वाले,
बीहड़ वन में नहीं बढ़ेंगे।
कलियाँ-सुमन मसलने वाले
नहीं जानते पौध उगाना।
रिश्ते रखना बहुत सरल है,
मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

लिखने वाले बहुत पड़े हैं,
है अकाल पढ़ने वालों का।
ढोल पीटने वाले सब हैं,
है अकाल मढ़ने वालों का।
तू-तू, मैं-मैं के घर में घुस,
बहुत कठिन उलझन सुलझाना।
रिश्ते रखना बहुत सरल है,
मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

कलयुग की कमजोरी है ये,
कंस बहुत हैं श्याम नहीं है।
लंका में सब बावन गज के,
लेकिन कोई राम नहीं है।
कैसे बुने कबीर चदरिया,
उलझ गया है ताना-बाना।
रिश्ते रखना बहुत सरल है,
मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

रक्षा करते, चोर-उचक्के,
आन-बान और शान नहीं है।
वानर सेना में अब कोई,
हनूमान बलवान नहीं है।
छीना-झपटी, मारा-मारी,
सस्ता जीवन महँगा खाना।
रिश्ते रखना बहुत सरल है,
मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. कलियाँ-सुमन मसलने वाले
    नहीं जानते पौध उगाना।
    रिश्ते रखना बहुत सरल है,
    मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

    बहुत सुंदर रचना,..अच्छी प्रस्तुति

    MY RECENT POST,,,,फुहार....: बदनसीबी,.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. लिखने वाले बहुत पड़े हैं,है अकाल पढ़ने वालों का।

    ....यह तो यूनिवर्सल फैक्ट है!...जैसे कि सुनने वालों की कमी है, बोलने वालों की कमी नहीं है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. तारीफ के लिए शब्द कम पड़ जायेंगे इस रचना के लिए ....लाजबाब

    उत्तर देंहटाएं
  4. लाज़वाब ! निशब्द कर दिया आपकी रचना ने...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. समाज का सत्य व्यक्त करती हुयी कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  6. रिश्ते रखना बहुत सरल है,
    मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

    यह रचना वाकई लाजबाव है ...
    बधाई भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. तू-तू, मैं-मैं के घर में घुस,
    बहुत कठिन उलझन सुलझाना।
    रिश्ते रखना बहुत सरल है,
    मगर कठिन है उन्हें निभाना।।
    एक गीत में इतने तेवर मगर पिरोना नहीं सरल ,है ,
    सारा गीत उल्लेख्य हर पद -पदांश ,गीतांश विशिष्ठ .बेहतरीन गीत .प्रेशनियता से
    भीगा हुआ ,कहीं विरोधी तेवर कहीं विश्लेषण परक कहीं स्वीकरण में झुकने वाले जीवन के स्पंदन में .

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या बात है सर ! आज अंदाज कुछ बदला -२ सा है ,मानसून अभी आने वाला है ,प्रवाह वेगमयी हो गया ........मुखर समीचीन अभिव्यक्ति ....शुभकामनायें /

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह सही अर्थो में लिखी गई कविता ...बहुत सरल और सच्ची ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. शास्त्री जी, एक एक बात १०० टंच खरी.... रिश्ते आजकल यूँ टूट रहे हैं जैसे कांच के खिलौने....

    उत्तर देंहटाएं
  11. रिश्ते रखना सरल है , मुश्किल है उन्हें निभाना !
    सत्य वचन !

    उत्तर देंहटाएं
  12. रिश्ते रखना बहुत सरल है,मगर कठिन है उन्हें निभाना।।

    sab kuchh to kah diya aapne:)

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails