"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 14 मई 2012

"बन्दीघर में पाला जायेगा" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


मेरे भारत की धरती पर जो आतंक मचायेगा।
उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

अतिथि देवो भव की, मर्यादा को क्योंकर छोड़ेंगे,
बैर-भाव को भुला, शत्रु से नातेदारी जोड़ेंगे,
हो अक्षम्य अपराध भले ही, प्राण नहीं लेंगे उसके,
हमें मिलेगी रूखी रोटी, वो बिरयानी खायेगा।
उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

सन्तों को आदत होती, चना-चबेना खाने की,
नहीं जरूरत है उनको, पूड़ी-हलवा खिलवाने की,
विदुरनीति तो नहीं रही, अब तो दुर्नीति पनपती है,
अनशकारी सत्याग्रह कर, अपनी जान गँवायेगा।
उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

अनाचार के लिए जूझना, नहीं रास उनको आता,
घोटाला करने वाला ही, ऊँचे आसन को पाता,
प्रजातन्त्र में जनहित की, जो भी बात करेगा,
उसे अकारण-साधारण जेलों में डाला जाएगा।
उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

लोकतन्त्र में चौथाखम्भा, दौलतवालों की सुनता,
जिसकी पहुँच नहीं ऊँची, वो कोरे सपनों को बुनता,
उनको अगर छींक आयी तो, खबर बनी अखबारों की,
चैनल भी उसको मोटे हर्फों में दिखलायेगा।
उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

24 टिप्‍पणियां:

  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति |
    आभार गुरु जी ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. कहो कसाई को अब साईं,
    वही गुसाईं है भाई |
    जब कसाब साहब बन जाए,
    होती सब बेकार दुहाई ||


    आधा सच भी नहीं दिखाते -
    सच कैसे मीडिया बताई |
    चांदी के जूते खा-करके,
    होती गुरुवर आज छपाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर समायिक रचना,..अच्छी प्रस्तुति

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरे भारत की धरती पर जो आतंक मचायेगा।
    उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।
    jelon me biryaanee milti ,

    par sake aise bhaag kahaan .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरे भारत की धरती पर जो आतंक मचायेगा।
    उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।
    jailon me biryaane milti ,par sabke aise bhaag kahaan ,

    ye pakvaan(sammaan) yahaan koi aatankee hi paayegaa ,

    उत्तर देंहटाएं
  6. जेलों में मिलती बिरयानी ,

    पर ये सम्मान यहाँ कोई आतंकी ही बस पायेगा ,
    हर शख्श ठागा रह जाएगा .

    उत्तर देंहटाएं
  7. जेलों में मिलती बिरयानी ,

    पर ये सम्मान यहाँ कोई आतंकी ही बस पायेगा ,
    हर शख्श ठागा रह जाएगा .

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज्वलंत विषय पर रचना करके आपने अपना लेखकीय धर्म निभाया है. ये हमारी राजनैतिक व्यवस्था की बिद्रूप्ता है कि अपराधी और आतंकी सजा नहीं मजा ले रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. KYA BATAYE AB KANOON KO TO FOLLOW KERNA HI PADEGA,AISE HAMARE NETA BOLTE HAI

    उत्तर देंहटाएं
  10. सरकारी दामाद बन गए अफज़ल और कसाब !
    सुन्दर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेरे भारत की धरती पर जो आतंक मचायेगा।
    उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

    सटीक कटाक्ष करती सुंदर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. लोकतन्त्र में चौथाखम्भा, दौलतवालों की सुनता,
    जिसकी पहुँच नहीं ऊँची, वो कोरे सपनों को बुनता,
    उनको अगर छींक आयी तो, खबर बनी अखबारों की,
    चैनल भी उसको मोटे हर्फों में दिखलायेगा।
    उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।…………।सत्य बयाँ कर दिया ………शानदार कटाक्ष

    उत्तर देंहटाएं
  13. सन्तों को आदत होती, चना-चबेना खाने की,
    नहीं जरूरत है उनको, पूड़ी-हलवा खिलवाने की,
    विदुरनीति तो नहीं रही, अब तो दुर्नीति पनपती है,
    अनशकारी सत्याग्रह कर, अपनी जान गँवायेगा।
    उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

    आदरणीय शास्त्री जी एक से बढ़ कर एक ..किस किस की तारीफ़ की जाए ...ये सरकार की आँखों से कहाँ दिखता है हो हल्ला मीडिया में दो दिन फिर सब ठन्डे बसते में आतंकी और भ्रष्ट के लिए सब स्पेशल होटल कबाब बिरयानी ..बचने के हर रास्ते उन के लिए खुले -आभार
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  14. त्वरित टिप्पणी से सजा, मित्रों चर्चा-मंच |
    छल-छंदी रविकर करे, फिर से नया प्रपंच ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  15. शानदार प्रस्तुति सर...
    उसे नाज-नखरों से बन्दीघर में पाला जायेगा।।

    || एक दिवस आयेगा कोई, उसे छुडा ले जाएगा ||

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails