"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 11 मई 2012

"नाम इसी का तो है जीवन" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


तन में-मन में हो अपनापन।
नाम इसी का तो है जीवन।।

नागर बन बैठा वनचारी,
लगी महकने बगिया सारी।
सपनों ने आकार लिया जब,
लगी चहकने दुनियादारी।
परिणय-प्रणय और उद्दीपन,
नाम इसी का तो है जीवन।।

भँवरे ने गुंजार सुनाई,
सुमन हँसा, कलिका मुस्काई।
फूलों का मीठा रस पीने,
पंख हिलाती तितली आई।
रस की लोभी मधु की मक्खी,
पंखुड़ियों का करती चुम्बन।
नाम इसी का तो है जीवन।।

सन्तानों को पिता प्यार से,
पाल रहा कितने दुलार से।
आयेगा जब कठिन बुढ़ापा,
झुक जायेगी रीढ़ भार से।
शिथिल अंग को रामबाण सा,
मिल जायेगा रस संजीवन।
नाम इसी का तो है जीवन।।

13 टिप्‍पणियां:

  1. झुक जायेगी रीढ़ भार से।
    शिथिल अंग को रामबाण सा,
    मिल जायेगा रस संजीवन।
    नाम इसी का तो है जीवन।।

    सुंदर बहुत सुंदर रचना,......

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि ...: आज मुझे गाने दो,...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर जावन व्याख्या ...!!
    शुभकामनायें शास्त्री जी ...!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सम्पूर्ण जीवन की बहुत ही सुन्दरता से व्याख्या की है आपने..
    सुन्दर और सार्थक रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसा अंतराल |
    काफी लंबा लगा इन्तजार -|
    खूबसूरत प्रस्तुति -
    आभार ||

    उत्तर देंहटाएं
  6. सन्तानों को पिता प्यार से,
    पाल रहा कितने दुलार से।
    आयेगा जब कठिन बुढ़ापा,
    झुक जायेगी रीढ़ भार से।
    शिथिल अंग को रामबाण सा,
    मिल जायेगा रस संजीवन।
    बहुत सार्थक कविता लिखी है ...अतिसुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  7. यार्थार्थ को दर्शाती अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. नाम इसी का तो है जीवन।
    सही कहा आपने....जीवन अनेक रंगों का मिश्रण है!...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!...आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  9. परिणय-प्रणय और उद्दीपन,
    नाम इसी का तो है जीवन।।
    बड़ा ही मनोहारी गीत रचा है भावन्रों के गुंजन सा इसका स्वर मुखरित अभी भी है .
    सावधान :पूर्व -किशोरावस्था में ही पड़ जाता है पोर्न का चस्का
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  10. हर संजीदा व्यक्ति भविष्य से आस लगाए रहता है। जीवन और सृष्टि-क्रम सचमुच इसी से है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवन को बहुत ही सुन्दर ढंग से परिभाषित किया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails