"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 25 जून 2012

"तुम भारत के वीर हो-राकेश चक्र"

नौजवान तुम बढ़ो देश के,
इस युग की तस्वीर हो।
कदम से कदम मिलाओ प्यारे,
तुम भारत के वीर हो।
वन्दे मातरम् वन्दे मातरम्!

हुआ सुशोभित प्यारा सारा,
ऊँचा आज हिमालय भाल,
भारत माँ की रक्षा कर लो,
तुम ही हो अनमोल सुलाल।
कार्य करो तुम और भी अच्छे,
फाग खिले और उड़े गुलाल
जग में मान बढ़ाओ प्यारे,
तुम ही तो रणधीर हो।
वन्दे मातरम् वन्दे मातरम्!

मिटे अंधेरा इस भारत का,
तुमको दीप जलाना है।
मन उजियारे सबके होंगे,
गीत प्रीति का गाना है।
भय भागे घर-घर का अब तो,
सुदृढ़ लक्ष्य बनाना है।
सबकी प्यास बुझाओ प्यारे
तुम ही मीठा नीर हो।
वन्दे मातरम् वन्दे मातरम्!

तुम ही हो सुभाष राष्ट्र के,
भगत सरीखे तारे हो।
लाल-बाल और पाल बनो,
शेखर से उजियारे हो।
तुम ही बिस्मिल, तुम ही अब्दुल
तुम ही गाँधी सारे हो।
तुम ही मशाल जलाओ प्यारे
बहती हुई समीर हो।
वन्दे मातरम् वन्दे मातरम्!

तुम ही भ्रष्टाचार मिटाओ,
तुम ही पापाचार को।
सब पंथों का भेद मिटाओ,
और बढ़ाओ प्यार को।
ग्रन्थों का सब ज्ञान पढ़ाकर,
दे दो सारे सार को।
सत् के वृक्ष उगाओ प्यारे,
तुम ही कर्म सुवीर हो।
वन्दे मातरम् वन्दे मातरम्!

माता तुम से मांग रही है,
अब बलिदानी जत्थों को।
तुमको ही रक्षा करना है,
दुश्मन हनें निहत्थों को।
संस्कृति तुम ही बचा सकोगे,
ज्ञान सिखा मनु पुत्रों को।
रक्षा करो आज भाषा की,
ज्ञानवान तदवीर हो।
वन्दे मातरम् वन्दे मातरम्!
राकेश "चक्र"

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया |
    विस्तृत ||
    शुभकामनाएं राकेश जी ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तु‍ति ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऊर्जावान , भावपूर्ण गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार २६/६ १२ को राजेश कुमारी द्वारा
    चर्चामंच पर की जायेगी

    उत्तर देंहटाएं
  6. Jai jawan.........
    Desh ki raksha karne walo ko salaam.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्‍छी प्रस्‍तु‍ति ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. कोंई दीपक जलाना, एक यज्ञ है |
    अन्धकार को भगाना, एक यज्ञ है ||
    बच्चे हमारे देश की कुल ताकत हैं-
    इनमें वीरता जगाना, एक यज्ञ है ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्‍छा गीत। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. राकेश जी के इस गीत ने देशभक्ति को और बुलंद कर दिया.
    वन्दे मातरम... वन्दे मातरम

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails