"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 27 जून 2012

"जकड़ा हुआ है आदमी" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


फालतू की ऐँठ में, अकड़ा हुआ है आदमी।
वानरों की कैद में, जकड़ा हुआ है आदमी।।

सभ्यता की आँधियाँ, जाने कहाँ ले जायेंगी,
काम के उद्वेग ने, पकड़ा हुआ है आदमी।

छिप गयी है अब हकीकत, कलयुगी परिवेश में,
रोटियों के देश में, टुकड़ा हुआ है आदमी।

हम चले जब खोजने, उसको गली-मैदान में
ज़िन्दग़ी के खेत में, उजड़ा हुआ है आदमी।

बिक रही है कौड़ियों में, देख लो इंसानियत,
आदमी की पैठ में, बिगड़ा हुआ है आदमी।

रूप तो है इक छलावा, रंग पर मत जाइए,
नगमगी परिवेश में, पिछड़ा हुआ है आदमी।

12 टिप्‍पणियां:

  1. आदमी की सही स्थिति का
    आकलन -
    संयोजन
    आभार-
    सुन्दर रचना ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिक रही है कौड़ियों में, देख लो इंसानियत,
    आदमी की पैठ में, बिगड़ा हुआ है आदमी।

    Lazabaab !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदमी के गुणगान काफी अच्‍छे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम चले जब खोजने, उसको गली-मैदान में
    ज़िन्दग़ी के खेत में, उजड़ा हुआ है आदमी।

    बेहद सशक्त रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. फालतू की ऐँठ में, अकड़ा हुआ है आदमी।
    वानरों की कैद में, जकड़ा हुआ है आदमी।।
    देश में अपने ही सबसे, बिछड़ा हुआ है आदमी
    स्वान की भी शान है ,पिछड़ा हुआ है आदमी ....बढ़िया प्रस्तुति हमारे आपके समय का ज़िंदा दस्तावेज़ ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिक रही है कौड़ियों में, देख लो इंसानियत,
    आदमी की पैठ में, बिगड़ा हुआ है आदमी।

    आदरणीय शास्त्री जी ..बहुत सुन्दर और सटीक ..अब जब यही हालात हैं कौड़ियों में इंसानियत बिकने लगी तो क्या कितनी उम्मीद रखी जाए लोभ भ्रष्टाचार बिना श्रम करोडपति अरबपति बनने की लालसा ने सब बंटाधार कर दिया है
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने से अन्जान है, पड़ा हुआ आदमी..

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदमी की सही स्थिति का बढ़िया आकलन -

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,सुंदर रचना,,,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम चले जब खोजने, उसको गली-मैदान में
    ज़िन्दग़ी के खेत में, उजड़ा हुआ है आदमी।

    वाह ! आज के आदमी का सटीक चित्र .

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails