"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 8 मार्च 2010

“व्यापार हो गये हैं” (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।
अनुबन्ध आज सारे, बाजार हो गये हैं।।


न वो प्यार चाहता है, न दुलार चाहता है,
जीवित पिता से पुत्र, अब अधिकार चाहता है,
सब टूटते बिखरते, परिवार हो गये हैं।
सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।
 

घूँघट की आड़ में से, दुल्हन का झाँक जाना,
भोजन परस के सबको, मनुहार से खिलाना,
ये दृश्य देखने अब, दुश्वार हो गये हैं।
सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।
 

वो सास से झगड़ती, ससुरे को डाँटती है,
घर की बहू किसी का, सुख-दुख न बाटँती है,
दशरथ, जनक से ज्यादा लाचार हो गये हैं।
सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।
 

जीवन के हाँसिये पर, घुट-घुट के जी रहे हैं,
माँ-बाप सहमे-सहमे, गम अपना पी रहे हैं,
कल तक जो पालते थे, अब भार हो गये हैं।
सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. sir, vyapaar bhi ab contract par chalne laga hai, log supplier, manpower aur contractor hote ja rahe hain.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सब टूटते बिखरते, परिवार हो गये हैं।
    सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।
    सही में देखा जाये तो आज रिश्ता का जैसे कोई माइने नहीं होता है ! हर जगह सब कुछ व्यापार हो गया है! आपने आज के समाज की परिस्थिति को लेकर सही चित्रण किया है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. रिश्तों का बाजार गरम है
    पर उनका अहसास नरम है..
    सही फ़रमाया आपने

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच है कि सम्‍बन्‍ध आज व्‍यापार हो गए है। सशक्‍त रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपने आज के समाज का यथार्थ उकेर दिया है..घर घर देखने मिल रहा है यह दृष्य.

    उम्दा रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के यथार्थ को बयां करती रचना. आभार.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन के हाँसिये पर, घुट-घुट के जी रहे हैं,
    माँ-बाप सहमे-सहमे, गम अपना पी रहे हैं,
    कल तक जो पालते थे, अब भार हो गये हैं।
    सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।

    inhi panktiyon mein sara saar aa gaya hai............halat ka bahut hi satik varnan.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज के युग का एक कडबा सच, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं.nice

    उत्तर देंहटाएं
  10. दशरथ, जनक से ज्यादा बेकार हो गये हैं।
    सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।

    bahut khub....
    aap ko main dnayabaad bhi dena chata hun ki aaap regular mere blog par aate hai. lagta hai aap ka anubhao chipa hai ismein...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी ये रचना कहीं मन में बस गयी...बस टीस रह गयी...सत्य को सटीक शब्द दिए हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  12. इतना सब पढ़ कर अब क्या कहें? जीवन का कटु और नग्न सत्य
    जीवन के हाँसिये पर, घुट-घुट के जी रहे हैं,
    माँ-बाप सहमे-सहमे, गम अपना पी रहे हैं,
    कल तक जो पालते थे, अब भार हो गये हैं।
    सम्बन्ध आज सारे, व्यापार हो गये हैं।।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails