"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 3 मार्च 2010

“पढ़ना-लिखना मजबूरी है!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)


 मुश्किल हैं विज्ञान, गणित,
हिन्दी ने बहुत सताया है।
अंग्रेजी की देख जटिलता,
मेरा मन घबराया है।। 

भूगोल और इतिहास मुझे,
बिल्कुल भी नही सुहाते हैं।
श्लोकों के कठिन अर्थ,
मुझको करने नही आते हैं।।

देखी नही किताब उठाकर,
खेल-कूद में समय गँवाया,
अब सिर पर आ गई परीक्षा,
माथा मेरा चकराया।।

बिना पढ़े ही मुझको,
सारे प्रश्नपत्र हल करने हैं।
किस्से और कहानी से ही,
कागज-कॉपी भरने हैं।।

नाहक अपना समय गँवाया,
मैं यह खूब मानता हूँ।
स्वाद शून्य का चखना होगा,
मैं यह खूब जानता हूँ।।

तन्दरुस्ती के लिए खेलना,
सबको बहुत जरूरी है।
किन्तु परीक्षा की खातिर,
पढ़ना-लिखना मजबूरी है।।

12 टिप्‍पणियां:

  1. तन्दरुस्ती के लिए खेलना,
    सबको बहुत जरूरी है।
    किन्तु परीक्षा की खातिर,
    पढ़ना-लिखना मजबूरी है।

    बहुत सही कहा आपने , अच्छी कविता शास्त्री जी !
    हर कोई यहाँ सचिन और धोनी की किस्मत लेकर नहीं आता !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय शास्त्री जी.... आपको बहुत फोन लगाया ....लेकिन आपने नहीं उठाया.... आपको होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.... मुझे ऐसा लगता है कि आपको सिर्फ एक शब्द दे दिया जाए.... और आप उस पर कविता तैयार कर देते हैं.... आपकी इस लेखनी को सादर नमन....

    सादर

    महफूज़..

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut sundar sandesh deti kavita hai.........padhna likhna majboori nhi jaroori hai bas itni si baat yadi bachche samajh jayein to jeevan safal ho jaye.

    उत्तर देंहटाएं
  4. तन्दरुस्ती के लिए खेलना,
    सबको बहुत जरूरी है।
    किन्तु परीक्षा की खातिर,
    पढ़ना-लिखना मजबूरी है।
    बहुत सुन्दर शिक्षा दी है आपने बच्चों के लिये। धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर सन्देश देते हुए एक उम्दा रचना पेश किया है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तन्दरुस्ती के लिए खेलना,
    सबको बहुत जरूरी है।
    किन्तु परीक्षा की खातिर,
    पढ़ना-लिखना मजबूरी है।
    बहुत सुन्दर ..
    आपकी इस लेखनी को सादर नमन....

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझे बचपन की वह कहावत यद आ गई ..पढ़ोगे-लिखोगे बनोगे नवाब

    उत्तर देंहटाएं
  8. तंदुरुस्ती के लिए खेला और परीक्षा के लिए पढना लिखना जरुरी है ...बहुत सही ...

    @ sharad kokas ji
    खेलोगे कूदोगे बनोगे ख़राब ...??...

    उत्तर देंहटाएं
  9. तन्दरुस्ती के लिए खेलना,
    सबको बहुत जरूरी है।
    किन्तु परीक्षा की खातिर,
    पढ़ना-लिखना मजबूरी है।।

    बहुत ख़ूब!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails