"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 26 मार्च 2010

“हमको याद दिलाते हैं” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

जब भी सुखद-सलोने सपने, 
नयनों में छा आते हैं।
गाँवों के निश्छल जीवन की,
हमको याद दिलाते हैं।

सूरज उगने से पहले,
हम लोग रोज उठ जाते थे,
दिनचर्या पूरी करके हम,
खेत जोतने जाते थे,
हरे चने और मूँगफली के,
होले मन भरमाते हैं।
गाँवों के निश्छल जीवन की,
हमको याद दिलाते हैं।।

मट्ठा-गुड़ नौ बजते ही,
दादी खेतों में लाती थी,
लाड़-प्यार के साथ हमें,
वह प्रातराश करवाती थी,
मक्की की रोटी, सरसों
का साग याद आते हैं।
गाँवों के निश्छल जीवन की,
हमको याद दिलाते हैं।।

आँगन में था पेड़ नीम का,
शीतल छाया देता था,
हाँडी में का कढ़ा-दूध,ताकत
तन में भर देता था,
खो-खो और कबड्डी-कुश्ती
अब तक मन भरमाते हैं।
गाँवों के निश्छल जीवन की,
हमको याद दिलाते हैं।।

तख्ती-बुधका और कलम,
बस्ते काँधे पे सजते थे,
मन्दिर में ढोलक-बाजा,
खड़ताल-मँजीरे बजते थे,
हरे सिंघाड़ों का अब तक, हम
स्वाद भूल नही पाते हैं।
गाँवों के निश्छल जीवन की,
हमको याद दिलाते हैं।।

युग बदला, पहनावा बदला,
बदल गये सब चाल-चलन,
बोली बदली, भाषा बदली,
बदल गये अब घर आंगन,
दिन चढ़ने पर नींद खुली,
जल्दी दफ्तर को जाते हैं।
गाँवों के निश्छल जीवन की,
हमको याद दिलाते हैं।।

9 टिप्‍पणियां:

  1. मट्ठा-गुड़ नौ बजते ही,
    दादी खेतों में लाती थी,
    लाड़-प्यार के साथ हमें,
    वह प्रतराश करवाती थी,
    मक्की की रोटी, सरसों
    का साग याद आते हैं।

    Koi lautaa de mere wo beete hue din ....बहुत सुन्दर शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस कविता ने बीते वक्त की गांव की झांकी दिखा दी....बहुत मन लुभाने वाली कविता..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर और मनमोहक रचना लिखा है आपने! बहुत अच्छा लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरा मन भी गांव की ओर भागता है. आपकी इस कविता ने और व्याकुलता को बढ़ा दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हरे चने और मूँगफली के,
    होले मन भरमाते हैं।

    Waah! paani aagaya muh me...bahut sundar rachana!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप बचपन में ले जाते हैं....
    .
    http://laddoospeaks.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. गाँव का पूरा जीवन इस एक कविता में समेट लिया है आभार

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails