"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 28 मार्च 2010

“प्रजातन्त्र की जय बोलो!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

लोकतन्त्र की जय बोलो!
प्रजातन्त्र की जय बोलो!!

रंगे स्यार को दूध-मलाई,
मिलता फैनी-फैना है।
शेर गधे बनकर चरते हैं,
रूखा-शुष्क चबेना हैं।।
लोकतन्त्र की जय बोलो!
प्रजातन्त्र की जय बोलो!!

झूठ और मक्कारी फलती,
दाल नही सच्चों की गलती,
सज्जनता आँखों को मलती,
दारू पैमानों में ढलती,
लोकतन्त्र की जय बोलो!
प्रजातन्त्र की जय बोलो!!

नोटों में भगवान बिक रहे,
खुले आम ईमान बिक रहे,
छम-छम नाच रही शैतानी,
खोटे सिक्के खूब टिक रहे,
लोकतन्त्र की जय बोलो!
प्रजातन्त्र की जय बोलो!!

स्वर्ग-लोक में गाँधी रोते,
आजादी की अर्थी ढोते,
वीर-सुभाष हुए आहत हैं,
भगतसिंह भी नयन भिगोते,
लोकतन्त्र की जय बोलो!
प्रजातन्त्र की जय बोलो!!

सबके सपने चूर हुए हैं,
भाई, भाई से दूर हुए हैं,
स्वतन्त्रता अभिशाप बन गई,
मापदण्ड मजबूर हुए हैं,
लोकतन्त्र की जय बोलो!
प्रजातन्त्र की जय बोलो!!

9 टिप्‍पणियां:

  1. लोकतन्त्र की जय बोलो!
    प्रजातन्त्र की जय बोलो!!
    हम तो आप के कहने से जय भी बोल देते है लेकिन हमे तो आज गुंडा तंत्र ही दिख रहा है चारो ओर

    उत्तर देंहटाएं
  2. नोटों में भगवान बिक रहे,
    खुले आम ईमान बिक रहे,
    स्वर्ग-लोक में गाँधी रोते,
    आजादी की अर्थी ढोते,
    वीर-सुभाष हुए आहत हैं,
    भगतसिंह भी नयन भिगोते,

    कटु सत्य को उजागर करती बहुत अच्छी अभिव्यक्ति.....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. aaj ke halat ka bahut hi marmik varnan............ek katu satya.

    उत्तर देंहटाएं
  4. रंगे स्यार को दूध-मलाई,
    मिलता फैनी-फैना है।
    शेर गधे बनकर चरते हैं,
    रूखा-शुष्क चबेना हैं।।
    लोकतन्त्र की जय बोलो!
    प्रजातन्त्र की जय बोलो!!
    जय हो!
    कटु सत्य को उजागर करती बहुत अच्छी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सबके सपने चूर हुए हैं,
    भाई, भाई से दूर हुए हैं,
    बहुत सुन्दर और करीबी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. रंगे स्यार को दूध-मलाई,
    मिलता फैनी-फैना है।
    शेर गधे बनकर चरते हैं,
    रूखा-शुष्क चबेना हैं।।
    लोकतन्त्र की जय बोलो!
    यही कर रहे हैं हम काफी समय से शास्त्री जी, बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  7. रंगे स्यार को दूध-मलाई,
    मिलता फैनी-फैना है।
    शेर गधे बनकर चरते हैं,
    रूखा-शुष्क चबेना हैं।।
    लोकतन्त्र की जय बोलो!
    प्रजातन्त्र की जय बोलो!!
    जय हो!
    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails