"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 17 मार्च 2010

“स्लेट और तख़्ती” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

सिसक-सिसक कर स्लेट जी रही,
तख्ती ने दम तोड़ दिया है।
सुन्दर लेख-सुलेख नहीं है,
कलम टाट का छोड़ दिया है।।
slate00patti1  IMG_1104 
दादी कहती एक कहानी,
बीत गई सभ्यता पुरानी,
लकड़ी की पाटी होती थी,
बची न उसकी कोई निशानी।।

फाउण्टेन-पेन गायब हैं,
जेल पेन फल-फूल रहे हैं।
रीत पुरानी भूल रहे हैं,
नवयुग में सब झूल रहे हैं।।

समीकरण सब बदल गये हैं,
शिक्षा का पिट गया दिवाला।
बिगड़ गये परिवेश प्रीत के,
बिखर गई है मंजुल माला।।

23 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sundar baal geet ..........aaj to slate ka riwaaz bhi khatam hone ke kagaar par hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. तख्ती और स्लेट कि खूब याद दिलाई है...और सच ही सारी परिपाटी बदल गयी है...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. बचपन याद दिला दिया आपने. बहुत सुंदर कविता.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सिसक-सिसक कर स्लेट जी रही,
    तख्ती ने दम तोड़ दिया है।
    सुन्दर लेख-सुलेख नहीं है,
    कलम टाट का छोड़ दिया है।।

    BAHUT SUNDAR PANKTIYAA SHASHTREE JI

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया कविता...बचपन की याद दिलाती हुई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे वाह, बहुत सुन्दर, बहुत खूबसूरत कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. तख्ती और स्लेट..ये दोनों शब्द तो हमें बचपन की याद दिला दी! बहुत ख़ूबसूरत रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे गर्व है कि मै भी कभी तख्ती व स्लेट पर लिखा करता था।

    उत्तर देंहटाएं
  9. तख्ती और स्लेट कि खूब याद दिलाई है...और सच ही सारी परिपाटी बदल गयी है...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. समीकरण सब बदल गये हैं,
    शिक्षा का पिट गया दिवाला।
    बिगड़ गये परिवेश प्रीत के,
    बिखर गई है मंजुल माला।।

    बचपन की याद .सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अब नयी प्रकार की स्‍लेट आ गयी है, जिसमें लिखो और खूब लिखो। सब कुछ अपने आप मिट जाता है। अपने लिए तो यह कम्‍प्‍यूटर है ना? बढिया बाल कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  12. याद आये पुराने दिन..समय बदल गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. लकड़ी की पाटी होती थी,
    बची न उसकी कोई निशानी।।
    यादों में ही बची है अब तो लकड़ी की पाटी
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  14. स्लेट और तख़्ती पर लिखने के दिन
    याद दिला दिए इस कविता ने!

    उत्तर देंहटाएं
  15. wo bhi ek din tha , jab adha samay takti ko kisane main hi lag jata tha.

    उत्तर देंहटाएं
  16. शोभनम् ! बहुत सुनदर .........हर चरण निराला है.......

    उत्तर देंहटाएं
  17. @Dr. Smt. ajit gupta ji!

    नई तरह की स्लेट तो आ गई है परन्तु
    हस्तलेख तोलगातार बिगड़ रहे हैं!
    अब तो सुलेख पर आयोजित
    पुरस्कारों की गूँज कम ही सुनाई देती हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  18. sanskar ki tarah slate bhi apna roop badal rahi hain.aab likho mat bus paste karo.bahut sunder kavita.
    main hindi main kese likkhu.tarkeeb batayo.

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेरी रसोई में तो आज भी स्लेट टंगी हुई है। भूलने की आदत है, इस स्लेट का बहुत सहारा है।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails