"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 4 जनवरी 2011

"नही भार उठाया जाता" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

भारी-भरकम शब्दों का नही भार उठाया जाता।
इसीलिए हलके-फुलके शब्दों से काम चलाता।।

कुछ मेरे इस पागलपन की हँसी उड़ाते होंगे।
तुकबन्दी से बच्चों को कुछ पाठ पढ़ाते होंगे।।

कुछ मुझको साहित्यकार, बेमन से कहते होंगे।
रोज-रोज ही घिसे-पिटे, शब्दों को सहते होंगें।।

अपनी अंगुलियों को मैं, दिन-प्रतिदिन समझाता हूँ।
जाल-जगत पर मत लिखना, तोते की तरह रटाता हूँ।।

लेकिन टाइप करने से, यह बाज नहीं आती हैं।
जाने-अनजाने में अपनी, हरकत कर जाती हैं।।

इनकी मेहनत पर मुझको तो, तरस बहुत आता है।
पोस्ट सरीखा इनका करतब, अपना रंग दिखाता है।।

पिछड़ गया है गद्य, पद्य में मन की व्यथा कही है।
जो कुछ मुझपर गुजर रही है, वो ही कथा कही है।।

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया.......भाव‍ और सत्यता से ओत प्रोत

    उत्तर देंहटाएं
  2. पिछड़ गया है गद्य, पद्य में मन की व्यथा कही है।
    जो कुछ मुझपर गुजर रही है वो ही कथा कही है।।
    उत्तम प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप बढ़िया लिखते हैं शास्त्री जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. man ke bhavon ko sachchai ke sath prakat karna hi kavi dharm hai .is kasauti par to aapki har rachna khri utarti hai fir kisi ne kya kaha aur kya nahi -is par vichar karna gairjaroori hai .

    उत्तर देंहटाएं
  5. । अरे आज क्या बात कह दी…………यूँ लग रहा है कि सच्चाई कह दी…………शायद यही सच है हम सभी का।

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात कही है पंडित जी! ऐट लीस्ट,हमतो कतई नहीं सोचते ऐसा आपके बारे में!!आपने पनेमन की कही है और हमें अपनी सी लगी है!!
    जय हो!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. halke saral shabdo se buni aik sundar rachnaa.. bhari bharkam klisht shabdon kee jarurat bhi nahi hoti..... aapki rachnaaye hamesha bahut sikshaprad Saral saras hoti hain....aur aapka cartoon chitr gajab..

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप ऐसा कहेंगे तो हम जैसे कहाँ जायेंगे ?:)

    उत्तर देंहटाएं
  9. रोचक ...
    स्वाभाविकता इसी में है ..!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी लेखनी सतत चलती रहे!
    सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (6/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. adarniy shastriji,
    'kavita bhavuk hriday ki sahajtam abhivyakti hoti hai'
    iske bare me aap jaise vaniputra se adhik aur kaun jan sakta hai?
    aap jo bhi likhte hain,apne aap me
    satsahity ka khajana hi hota hai.
    bhasha aur vidha jo bhi ho!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails