"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 15 जनवरी 2011

"धूप अब खिलने लगी है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

कायदे से धूप अब खिलने लगी है।
लेखनी को ऊर्जा मिलने लगी है।।

दे रहा मधुमास दस्तक, शीत भी जाने लगा,
भ्रमर उपवन में मधुर संगीत भी गाने लगा,
चटककर कलियाँ सभी खिलने लगी हैं।
लेखनी को ऊर्जा मिलने लगी है।।

कल तलक कुहरा घना था, आज बादल छा गये,
सींचने आँचल धरा का, धुंध धोने आ गये,
पादपों पर हरितिमा खिलने लगी है।
लेखनी को ऊर्जा मिलने लगी है।।

सब पुरातन पात पेड़ों से, स्वयं झड़ने लगे हैं,
बीनकर तिनके परिन्दे, नीड़ को गढ़ने लगे हैं,
अब मुहब्बत चाके-दिल सिलने लगी है।
लेखनी को ऊर्जा मिलने लगी है।। 

18 टिप्‍पणियां:

  1. नई धूप हम सबके जीवन में नई ऊर्जा भरे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई यह धूप जन-जीवन को नई उर्जा दे रही है । उंगलियां व्यवस्थित चलने लगी हैं.
    लेखनी को भी उर्जा मिलने लगी है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह धूप नवजीवन के नवागमन की भी परिचायक है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रचना आज तो सचमुच अच्छी धूप खिली है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस नव उर्जा को क्षय होने से बचाना भी है. बहुत सुन्दर कोमल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऊर्जा मिलने लगी है!
    धूप अब खिलने लगी है!
    --
    गेयता से परिपूर्ण मनरंजक गीत!

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऊर्जा मिलने लगी है!
    धूप अब खिलने लगी है!
    --
    गेयता से परिपूर्ण मनरंजक गीत!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सूर्य का भी संक्रमण प्रारम्भ हो गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय चाचाश्री डॉ.रूपचन्द्र जी शास्त्री "मयंक"
    प्रणाम !
    प्रथमतः आपकी पुस्तकों के प्रकाशन पर हार्दिक बधाइयां !


    फिर …
    आपके वहां आयोजित साहित्यिक-ब्लॉगर सम्मेलन के सफल आयोजन की बधाइयां !

    और,

    धूप अब खिलने लगी है
    गीत की तो बात ही क्या ! पूरा गीत लय में है । सच कहूं तो बसंत का आभास होने लगा …

    आपके शब्द कभी किसी वाह वाह की मुहर के मोहताज नहीं होते ।
    मैं तो नए छंदसाधकों से कहूंगा - किसी को प्रेरणा लेनी है तो आपके गीतों से ले ।

    >~*~ हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !~*~
    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऊर्जा मिलने लगी है!
    धूप अब खिलने लगी है!

    बहुत ही सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच मे बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति।
    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (17/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ऊर्जा प्रदान करती रचना |बधाई नई पुस्तकों के लिये |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर और प्यारा गीत है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर शब्द चित्र..आभार

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails