"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 30 जनवरी 2011

"मुख्यमन्त्री ने किया दोनों पुस्तकों का लोकार्पण" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

उत्तराखण्ड के यशस्वी मुख्यमन्त्री 
माननीय डॉ. रमेश पोखरियाल "निशंक" ने
मेरी दोनों पुस्तकों 
"सुख का सूरज" और "नन्हें सुमन" का लोकार्पण 
देवभूमि उत्तराखण्ड की 
जनता-जनार्दन के सामने किया!
आज उत्तराखण्ड के माननीय मुख्यमन्त्री
डॉ. रमेश पोखरियाल "निशंक"
मा.पुष्कर सिंह धामी
(उपाध्यक्ष-शहरी विकास अनुश्रवण परिषद्)
के विवाह समारोह में खटीमा पधारे।
इस अवसर पर उन्होंने मेरी दोनों पुस्तकों 
"सुख का सूरज" और "नन्हें सुमन" का लोकार्पण 
देवभूमि उत्तराखण्ड की 
जनता-जनार्दन के सामने किया!
मैं माननीय मुख्यमन्त्री जी का हृदय से आभारी हूँ!
जनता के बीच मा.मुख्यमन्त्री जी
पुस्तकों के लोकार्पण के पश्चात मंच से नीचे उतरते हुए

22 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्री जी ... बहुत बहुत बधाई दोनो पुस्तकों के प्रकाशन पर ...
    मिठाई खिलाइए ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. Shastri ji,bhut bhut badhai aapke pustko ke lokarpan hetu.,.dhero sari subhkamnaye....par hum kaise padh payenge un pustako ko.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत बधाई... आप इसी तरह हमेशा लिखते रहें....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बधाई हो आपको, इस सम्मान के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी तरफ से भी बधाई स्वीकार करे।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शास्त्री जी आप को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई दोनो पुस्तकों के लोकार्पण पर।

    उत्तर देंहटाएं
  8. जल्दी ही आपसे मिलने आयेंगे.. बधाईयां..

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपको इस विशेष अवसर की विशेष बधाईयां...

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (31/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सारी बधाई हो शास्त्री जी आपको...ईश्वर यूँही हरदम आपको उन्नति के पथ पर अग्रसर करे...बहुत ही अच्छा.....आपके लिए मंगलकामना है मेरी......धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीय डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" जी
    सादर अभिवादन ! प्रणाम !

    मुख्यमन्त्री द्वारा दोनों पुस्तकों "सुख का सूरज" और "नन्हें सुमन" के लोकार्पण पर हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !

    पुस्तकें पढ़ने का सौभाग्य मिलेगा हमें भी ?

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails