"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 16 जनवरी 2011

"नहीं मौत पर कोई बस है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

आज कुछ लिखने का मन नहीं हो रहा है।
क्योंकि मेरे बड़े पुत्र से मात्र 5 दिन बड़ी
मेरी पुत्री तुल्या ममेरी बहन अमिता के पति
श्री अजय वर्मा का मात्र 39 साल की अवस्था में
कल शाम नैनीताल से लौटते समय
एक दुर्घटना में देहान्त हो गया है!
बहुत ही दुखी मन से मैं इन्हें 
अपनी अश्रुपूरित श्रद्धाञ्जलि समर्पित करता हूँ!
प्रभू इनकी आत्मा को सद्-गति प्रदान करें!
0000000
कभी सरल और कभी वक्र है।
चलता रहता समय चक्र है।।
भय के साथ जुड़ा साहस है।
नहीं मौत पर कोई बस है।।
योगी-भोगी, ज्ञानी-ध्यानी।
जन्म-मृत्यु से सब अज्ञानी।।
जाने कब थम जाए रवानी।
साँसों की है अजब कहानी।।
जीवन तो है कठिन पहेली।
साथ निभाती मृत्यु सहेली।।
जिसने दी माटी की काया।
वही जानता अपनी माया।।

24 टिप्‍पणियां:

  1. ओह! बेहद दुखद! हमारी तरफ़ से भी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि। ईश्वर आपकी बहन को ये गम सहने की शक्ति दे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुखद और अफ़सोस जनक ! भग्वान उनके परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति दे !

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन में इससे बड़ा दुख और क्‍या होगा? आप बड़े हैं तो आपको ही धैर्य रखना होगा। ईश्‍वर सबको शान्ति प्रदान करे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. विनम्र श्रधांजलि !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद दुखद ! परमात्मा परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति दे.

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओह बहुत दुखद समाचार हमारी तरफ़ से भी उन्हे श्रद्धाञ्जलि

    उत्तर देंहटाएं
  7. aapke dukh ne drvit kar diya.
    ishwar aapko sahne ki shakti den.

    उत्तर देंहटाएं
  8. bhagvan unki aatma ko shanti de v aap sabhi ko yah dukh sahne ka sahas .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद दुखद घटना। आपके दुख में हम भी सम्मिलित है। भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. हृदयविदारक घटना ...विनम्र श्रद्धांजलि ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप का ज्ञान और प्रज्ञा इस दुख की घड़ी में आप के साथ रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. श्रद्धान्जलि दिवंगत को, दुखद समाचार।

    उत्तर देंहटाएं
  13. हृदयविदारक घटना. मन व्यथित हो गया. विनम्र श्रद्धांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत दुखद घटना .

    अश्रुपूरित विनम्र श्रद्धांजलि ..

    ईश्वर आत्मा को शांति प्रदान करे और परिजनों को इस अथाह दुःख सागर से उबरने का साहस दे |

    उत्तर देंहटाएं
  15. ह्रदयविदारक स्थिति.
    भावपूर्ण श्रद्धांजली.
    ईश्वर सभी परिजनों को ये भीषण दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करें ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails