"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 10 जनवरी 2011

"प्रिंट मीडिया में खटीमा ब्लॉगर मीट की चर्चा"

दिनांक 9-01-11 को खटीमा में आयोजित 
लोकार्पण समारोह एवं राष्ट्रीय ब्लॉगर मीट की गूँज 
प्रिंट मीडिया में भी देखी गई!
दैनिक जागरण अवं अमर उजाला के 
नैनीताल संस्करण में 
इसकी व्यापक चर्चा हुई है!

16 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर और सार्थक चर्चा...हार्दिक बधाइयाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पुस्तकों के प्रकाशन व सफल ब्लागर मीट के लिए ढेरों बधाइयां.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत बधाई जी इस सफ़लता की, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. पण्डित जी! एक अच्छी शुरुआत! अच्छा कवरेज!आपके प्रयासों के लिये बधाई और यह मंगलकामना कि खटीमा सम्मेलन सफल एवम् सार्थक सिद्ध हो!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक बार फिर बधाई स्वीकारें शास्त्री जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय शास्त्री जी के सानिध्य सुख के अनुभव के पश्चात आज सुबह सकुशल लखनऊ पहुँच गया, उनकी विनम्रता, कार्यकुशलता और सहृदयता का कायल हो गया हूँ मैं, आभार !
    विष्णुक्रान्ता के ताज़े फूलों की तरह तरोताजा रहा शुरू से आखिर तक लोकार्पण और ब्लोगर मिलन समारोह, कुंद सी सुगन्धित रही पूरी गतिविधियाँ ! एक नया एहसास दे गयी खटीमा यात्रा, यह कार्यक्रम निश्चित रूप से इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया है, अविनाश जी, राजीव तनेजा जी, पवन चन्दन जी, पद्म सिंह जी, सुमन जी, पाण्डेय जी , सिद्धेश्वर सिंह जी , रावेन्द्र रवि जी, आशा शैली जी और अन्य श्रद्धेय जनों से मेरी मुलाक़ात अविस्मरनीय रही !

    इस कार्यक्रम को जिबंतता प्रदान करने हेतु गिरीश बिल्लोरे मुकुल जी की जीतनी भी प्रशंसा की जाए कम होगी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. नि:संदेह गिरीश जी और अविनाश जी इस समारोह में तकनीकी की नयी मिसाल कायम की है, इन्हें कोटिश: शुभकामनाएं !

    मैं तो ब्लॉगजगत का नन्हा ब्लोगर हूँ , किन्तु अपने को पहली बार इस समारोह में आदरणीय रवीन्द्र प्रभात जी जैसे व्यक्तित्व के आकर्षण में विल्कुल वेसुद्ध खोया हुआ पाया !

    रवीन्द्र जी के बारे में जितना सुना था उससे कहीं ज्यादा विनम्र, सहृदय, आत्मीय, मृदुभाषी और आदर्श व्यक्तित्व के धनी हैं वे ! कार्यक्रम के दौरान जिसप्रकार हिंदी भाषा और साहित्य के विकास में ब्लोगिंग की भूमिका विषय पर उन्होंने लगभग आधे घंटे बोला और वहां बैठे श्रोता मंत्रमुग्ध होकर सुन रहे थे सबकी जुबान से बस यही फूट रहा था कि यार हिंदी ब्लोगिंग में ऐसे भी लोग हैं, विल्कुल इनसाक्लोपीडिया !

    मेरी तो ब्लोगिंग सार्थक हो गयी आदरणीय रवीन्द्र प्रभात जी, अविनाश जी, सुमन जी, राजीव तनेजा जी, पद्म सिंह जी, केवल राम जी, शास्त्री जी जैसे प्रबुद्ध ब्लोगरों के सानिध्य का सुख पाकर !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आद.शास्त्री जी,

    पुस्तकों के लोकार्पण एवं कार्यक्रम के सफल आयोजन होने पर मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करें !
    हिंदी ब्लॉग जगत के इतिहास में इस कार्यक्रम को हमेशा याद किया जाएगा !

    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  9. पुस्तकों के प्रकाशन व सफल ब्लागर मीट के लिए ढेरों बधाइ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छा लगा.. सुखद.. अभी भी आनन्द आ रहा है..

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails