"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 15 नवंबर 2011

" बाल मेला और विमोचन के दृश्य" ( डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

आज 14 नवम्बर, 2011 को
बालदिवस के अवसर पर
खटीमा पब्लिक स्कूल एशोसियेसन के द्वारा
एक विसाल बाल मेले का आयोजन किया गया।
जिसमें एशोसियेसन से जुड़े 53 विद्यालयों के
छात्र-छात्राओं द्वारा रंगा-रंग कार्यक्रमों का भी 
आयोजन किया गया।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथियों के रूप में
माननीय पुष्कर सिंह धामी
उपाध्यक्ष-शहरी विकास एवं अनुश्रवण परिषद,
(राज्य मन्त्री, उत्तराखण्ड सरकार)
और खण्ड शिक्षा अधिकारी
श्री डी.एस.राजपूत पधारे।
बालदिवस के अवसर पर
20 हजार लोगों की उपस्थिति में
मेरी दो पुस्तकों
"हँसता गाता बचपन" (बाल कविता संग्रह)
और
"धरा के रंग" (कविता संग्रह)
का लोकार्पण किया गया।
जिसका संचालन स्थानीय
हेमवतीनन्दन बहुगुणा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय
के हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सिद्धेश्वर सिंह ने किया।
इस अवसर पर माननीय पुष्कर सिंह धामी
उपाध्यक्ष-शहरी विकास एवं अनुश्रवण परिषद,
(राज्य मन्त्री, उत्तराखण्ड सरकार)
मा. राजू भण्डारी (प्रदेश उपाध्यक्ष-भा.ज.पा)
मा. रंदीप सिंह पोखरिया (प्रदेश प्रभारी-हिंदू.जा.म.),
मा. महेश चन्द्र जोशी (पूर्व प्रदेश सं.मन्त्री, कांग्रेस)
मा. प्रकाश तिवारी (प्रदेश अध्यक्ष-किसान कांग्रेस)
श्री डी.एस.राजपूत (खण्ड शिक्षा अधिकारी),
डॉ. गंगाधर राय (हिन्दी प्रवक्ता),
सरस पायस के सम्पादक श्री रावेंद्रकुमार रवि,
पुस्तकों की प्रकाशक श्रीमती आशा शैली,
लब्धप्रतिष्ठित वरिष्ठ कवि देवदत्त प्रसून, 
रूमानी शायर गुरू सहाय भटनागर बदनाम,
कोषाध्यक्ष-मोहन चन्द्र मुरारी
तथा एशोसियेसन के समस्त पदाधिकारी उपस्थित थे।
कार्यक्रम में संस्था के उपाध्यक्ष श्री प्रवीण उपाध्याय ने
शॉल ओढ़ाकर मुझे सम्मानित किया।
अपने सम्बोधन में एशोसियेसन के सचिव
श्री नीरज कुमार ने कहा-
"आज हमें  खटीमा पब्लिक स्कूल एशोसियेसन के अध्यक्ष
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" को सम्मानित करते हुए
बहुत गर्व और हर्ष का अनुभव हो रहा है।
इस क्षण की चित्रावली निम्नवत् है!
चाचा नेहरू को प्रणाम करते हुए
एशोसियेसन के अध्यक्ष!
 
मेले में उमड़ा अपार जनसमूह!
बाल मेले में आरती प्रकाशन, लालकुआँ (नैनीताल)
के स्टॉल पर श्रीमती आशा शैली, श्री सत्यपाल जी,
गुरू सहाय भटनागर बदनाम और पुस्तकें देखते हुए लोग।
विमोचन के कार्यक्रम का संचालन करते हुए
हेमवतीनन्दन बहुगुणा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय
के हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. सिद्धेश्वर सिंह।
मुझे शाल ओढ़ाकर सम्मानित करते हुए
आदरणीय उपाध्याय जी।
विमोचन के दृश्य

 
 
 "हँसता गाता बचपन" (बाल कविता संग्रह)
और
"धरा के रंग" (कविता संग्रह) से
कुछ अपनी कविताओं का पाठ करते हुए
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 
 
माननीय पुष्कर सिंह धामी
उपाध्यक्ष-शहरी विकास एवं अनुश्रवण परिषद,
(राज्य मन्त्री, उत्तराखण्ड सरकार)

 
मेले का आनन्द उठाते हुए
मेरी पुत्रवधु श्रीमता कविता
और धर्मपत्नी श्रीमती अमर भारती!
आखिर एक कोने में बैठने के लिए 
खाली जगह इनको भी मिल ही गई!

21 टिप्‍पणियां:

  1. विमोचन एवं लोकार्पण हेतु बहुत बधाई...अच्छी रही चित्र प्रदर्शनी...आभार!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर चित्रावली...
    सादर बधाईयाँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut sudar avsar baal mele me book ka vimochan bahut sarahniye raha.chitra bhi bahut bahut achche hain.sorry main vahaan nahi ho saki.

    उत्तर देंहटाएं
  4. विमोचन एवं लोकार्पण हेतु बहुत बधाई और शुभकामनाएँ |

    बढ़िया लगी चित्रमय प्रस्तुति

    Gyan Darpan
    Matrimonial Site

    उत्तर देंहटाएं
  5. बाल साहित्‍य आज की आवश्‍यकता है,इसके प्रोत्‍साहन के लिए आपकी पुस्‍तकें मील का पत्‍थर बनेगी इसी आशा और विश्‍वास के साथ आपको शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बहुत बधाई आपको, आप ऐसे ही लिखते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. खटीमा पब्लिक स्कूल की एशोसियेसन को परनाम
    भव्य नहीं अति भव्य यह , आयोजन अभिराम.

    बीस हजारी भीड़ में ,विशिष्ट जनों के संग
    दो पुस्तकों का लोकार्पण -कार्यक्रम रंगारंग.

    जिसके निर्देशन में सजे भव्य-मंच ,स्टाल
    धन्यवाद के पात्र ! उन्हें पहुँचे यह गरमाल.

    बहुत-बहुत शुभ-कामना, शास्त्री जी को आज
    कविवर , गुरुवर या कहें रूप चंद्र कविराज.

    उत्तर देंहटाएं
  8. महाविमोचन हो गया, दर्शक बीस हजार |
    अंतरजाल भी जोड़िये, हुए लाख के पार ||

    बच्चों के साहित्य की, कमी दिखे अति घोर |
    श्रीमन की कोशिश सफल, है स्वागत पुरजोर ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. चित्रमयी प्रस्तुति से लगा जैसे हम भी वहीं उपस्थित थे………………पुस्तको के विमोचन के लिये हार्दिक बधाई।बाल साहित्य मे आपका योगदान अतुलनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बधाई,शुभकामनाओं के साथ,ऐसे सुअवसर,आपके जीवन में आते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. चित्रमयी प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी...सादर बधाई और शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  12. अंकल हम बच्चों को इतनी अच्छी पुस्तकें देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!...और इनके इतने भव्य विमोचन समारोह के लिए आपको बहुत-बहुत बधाई!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बहुत बधाई..शास्त्री जी.. सभी फोटॊ बहुत सुन्दर है...

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर चित्रावली.
    विमोचन एवं लोकार्पण हेतु बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. विशाल जनसमूह के बीच पुस्तक का विमोचन...बहुत बढ़िया... बहुत बहुत शुभकामनाये...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails