"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 26 नवंबर 2011

"खार पर निखार है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



है नशा चढ़ा हुआ, खुमार ही खुमार है।
तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।

मुश्किलों में हैं सभी, फिर भी धुन में मस्त है,
ताप के प्रकोप से, आज सभी ग्रस्त हैं,
आन-बान, शान-दान, स्वार्थ में शुमार है।
तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।

हो गये उलट-पलट, वायदे समाज के,
दीमकों ने चाट लिए, कायदे रिवाज़ के,
प्रीत के विमान पर, सम्पदा सवार है।
तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।

अंजुमन पे आज, सारा तन्त्र है टिका हुआ,
आज उसी वाटिका का, हर सुमन बिका हुआ,
गुल गुलाम बन गये, खार पर निखार है।
तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।

झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
राम के ही देश में, राम बेकरार है।
तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।

24 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद सुन्दर ... कितने भाव है .. पर लय है गीत है... खूबी आपकी ..सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. aapke kavitaon ki lay dekhte banti hai... aur bhaw ka jabab nahi:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया कविता... व्यंग भी भाव भी...

    उत्तर देंहटाएं
  4. न जाने किस अधिकता का लक्षण है यह बुखार..

    उत्तर देंहटाएं
  5. झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
    बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
    राम के ही देश में, राम बेकरार है।
    तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।

    गज़ब की व्यंग्यात्मक रचना है………बहुत खूब्।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी कविता फैक्ट्री से निकली हर कविता.....अपने भाव और व्यंग्य में हर बार की तरह इस बार भी खरी उतरती है ............आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. हो गये उलट-पलट, वायदे समाज के,
    दीमकों ने चाट लिए, कायदे रिवाज़ के,
    प्रीत के विमान पर, सम्पदा सवार है।

    बहुत बढ़िया गीत सर..
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन शब्द समायोजन..... भावपूर्ण अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  9. झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
    बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
    राम के ही देश में, राम बेकरार है।

    bahut achhee panktiyaan

    उत्तर देंहटाएं
  10. झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
    बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
    कटु यथार्थ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
    बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
    राम के ही देश में, राम बेकरार है।
    तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।

    ....बहुत सटीक और लाज़वाब प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  12. अंजुमन पे आज, सारा तन्त्र है टिका हुआ,
    आज उसी वाटिका का, हर सुमन बिका हुआ,
    गुल गुलाम बन गये, खार पर निखार है।

    वाह ! बहुत तीक्ष्ण...

    उत्तर देंहटाएं
  13. दीमकों मे चाट लिए कायदे रिवाज के .... साची बात कहता बहुत सुंदर गीत...
    समय मिले कभी तो आयेगा मृ पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  14. झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
    बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
    बेहद सुन्दर ...!

    उत्तर देंहटाएं
  15. उम्मिदें हुईं नहीं अभी तार-तार हैं,
    चाटां पडा गाल पे यह बेबसों का उपहार है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुंदर प्रस्तुति,..
    लगता है मेरे पोस्ट तक आने के लिए आपके पास समय नही है,फिर भी आपका इन्तजार करूगाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  17. झूठ के प्रभाव से, सत्य है डरा हुआ,
    बेबसी के भाव से, आदमी मरा हुआ,
    राम के ही देश में, राम बेकरार है।
    तन-बदन में आज तो, बुखार ही बुखार है।।


    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. अंजुमन पे आज, सारा तन्त्र है टिका हुआ,
    आज उसी वाटिका का, हर सुमन बिका हुआ,

    यथार्थ !!, सुन्दर अभिव्यक्ति --साधुवाद ,

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails