"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 20 नवंबर 2011

"यह क्षण माता जी के जीवन में अब कभी नहीं आयेंगे।" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

अपने बाल सखा
डॉ. धर्मवीर को
शत्-शत् नमन!

जन्मः 01-01-1947
मृत्युः 19-11-2011
साथ-साथ में खेले-कूदे,
साथ-साथ ही हुए बड़े।
हरिद्वार की पुण्यभूमि में,
गुरुकुल में हम साथ पढ़े।।

वैद्यराज बनकर दोनों ने,
यश-धन को भी खूब कमाया।
जीवन पथ पर चलते-चलते,
सीमित सा परिवार बढ़ाया।।

आज अचानक इस दुनिया से,
तुमने नाता तोड़ लिया हैं।
इष्ट-मित्र, पुत्री-पुत्रों को,
आज बिलखता छोड़ दिया है।।

मेरी माता के भइया को,
श्रद्धा-सुमन समर्पित हैं।
तुमको भारी मन से मामा,
आँसूमाला अर्पित हैं।।
22 जून, 1973 को
डॉ. धर्मवीर का विवाह
दिल्ली निवासिनी प्रभा जी के साथ हुआ।
जो 4 मार्च, 1998 में इनका साथ छोड़ गईं।
डॉ. धर्मवीर की गोद में बैठी
इनकी छः मास की बिटिया अमिता,
जिसका विवाह काशीपुर में
श्री अजय वर्मा के साथ सम्पन्न हुआ था।
लेकिन 10 माह पहले अजय वर्मा की
एक सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई।
इस हादसे ने डॉ. धर्मवीर को तोड़ कर रख दिया
और 19-11-2011 को उनकी हृदयगति रुक जाने के कारण
चम्पावत के सिप्टी गाँव में
उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया।
जीवन के अन्तिम क्षणों में
वे सिप्टी के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में
संविदा पर चिकित्साधिकारी के पद पर कार्यरत थे।
यह हैं मेरी 85 वर्षीया माता जी
श्रीमती श्यामवती देवी!
इस वर्ष रक्षाबन्धन के अवसर पर
माता जी अपने छोटे भाई
डॉ. धर्मवीर को राखी बाँधती हुई।
यह क्षण माता जी के जीवन में
अब कभी नहीं आयेंगे।

25 टिप्‍पणियां:

  1. डा.धर्मवीर को बाह्भीनी श्रधांजलि है हमारी ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. shastri ji is dukh me hume bhi apne saath samajhiyega aapke mama ko haardik shraddhanjali.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतने इष्ट मित्र/संबंधी की म्रुत्यु इंसान को झकझोर कर रख देती है। दिवंगत आत्मा कॊ भावभीनी श्रद्धांजली। श्वर आप सभी को इस गम को सहने और शोक संतप्त परिवार का सहारा बनने का हौसला प्रदान करे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिवंगत आत्मा कॊ भावभीनी श्रद्धांजली

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिवंगत आत्मा को मेरी भी श्रद्धांजलि ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. उनकी आत्मा को शांति और परिवार को संबल।

    उत्तर देंहटाएं
  7. डॉ. धर्मवीर को शत्-शत् नमन! विनम्र श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इन हृदय विदारक हादसों का दर्द वाकई असहनीय है. उनके परिवार पर क्या बीत रही होगी ,यह सोच कर ही मन व्यथित हो जाता है.
    स्वर्गीय डॉ. धर्मवीर के शोक संतप्त परिवार जनों और आप जैसे उनके घनिष्ठ मित्रों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदनाएं.ईश्वर से प्रार्थना है कि वह स्वर्गीय डॉ. धर्मवीर की आत्मा को शान्ति प्रदान करें. ईश्वर उनके परिवार को यह अपार दुःख सहने की शक्ति देकर उन्हे धैर्य और हौसला भी प्रदान करें .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत दुखद ... बहुत .. प्रभु दिवंगत आत्मा को अपना सानिध्य और शांति प्रदान करे .. और इष्ट मित्रों को और परिवार को दुःख सहने की ताकत डे... मेरी श्रधांजलि .. आप भी हौसला रखिये.. जीवन का यह कटु सत्य बहुत दुखदायी है लेकिन हमें इसके साथ जीना है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. डा.धर्मवीर को भावभीनी श्रधांजलि......

    उत्तर देंहटाएं
  11. पुण्यात्मा को सादर श्रद्धांजली व शत शत नमन....

    उत्तर देंहटाएं
  12. नमन!दिवंगत आत्मा को शान्ति और परिवारजन को संबल मिले!

    उत्तर देंहटाएं
  13. ओह ! बेहद दुखद्…………प्रभु दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे .. और इष्ट मित्रों को और परिवार को दुःख सहने की ताकत दे साथ ही आपको और आपकी माता जी को इस दुखद घडी को सहने का हौसला प्रदान करे……………जाने वाले फिर नही आते जाने वालो की याद आती है बस उन्ही यादो को संजोये रखिये।

    उत्तर देंहटाएं
  14. डॉक्टर धर्मवीर जी को मेरा शत शत नमन और विनम्र श्रद्धांजलि!

    उत्तर देंहटाएं
  15. डॉ. धर्मवीर को शत्-शत् नमन! विनम्र श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत दुखद होता है छोटों का असमय चला जाना... डॉ. धर्मवीर को शत शत नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  17. dr.dharmvir ji ko vinamra shraddhanjali.....
    unaki aatma ko shanti mili....

    उत्तर देंहटाएं
  18. दिवंगत आत्मा को हमारी भावभीनी श्रद्धांजलि.

    उत्तर देंहटाएं
  19. डॉ. धर्मवीर के शोक संतप्त परिवार जनों और आप जैसे उनके घनिष्ठ मित्रों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदनाएं.ईश्वर से प्रार्थना है कि वह उनके परिवार को यह अपार दुःख सहने की शक्ति देकर उन्हे धैर्य और हौसला भी प्रदान करें .

    उत्तर देंहटाएं
  20. शास्त्री साहब के परिवार के लिए दुआएं करते हैं कि उन्हें सहने की ताक़त मिले और हर अच्छी बात उन्हें नसीब हो।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails