"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

‘‘बचा लो पर्यावरण’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

घटते वन,
बढ़ता प्रदूषण,
गाँव से पलायन
शहरों का आकर्षण।
जंगली जन्तु कहाँ जायें?
कंकरीटों के जंगल में
क्या खायें?
मजबूरी में वे भी
बस्तियों में घुस आये!
--

क्या हाथी,
क्या शेर?
क्या चीतल,
क्या वानर?
त्रस्त हैं,
सभी जानवर।
खोज रहे हैं सब
अपना आहार,
हो रहे हैं नर
अपनी भूलों का शिकार।
--
अभी भी समय है,
लगाओ पेड़, 
उगाओ वन,
हो सके तो 
बचा लो,
पर्यावरण!
○ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
खटीमा (उत्तराखण्ड)

24 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ा सच कहा है, आने वाली पीढियों के काम यही आयेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जानवर मनुष्‍यों की बस्‍ती में नहीं घुसा है अपितु मनुष्‍य जानवरों के जंगल में जा घुसा है और उसे काटकर बस्‍ती बसा ली है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी भी समय है,
    लगाओ पेड़,
    उगाओ वन,
    हो सके तो
    बचा लो,
    पर्यावरण!
    प्रेरणात्‍मक अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Beautiful creation in bringing awareness among the ignorant lot.

    उत्तर देंहटाएं
  5. उगाओ वन,
    हो सके तो
    बचा लो,
    पर्यावरण!
    bahut sarthak baat kahi ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया लगा! सुन्दर सन्देश देती हुई बेहतरीन रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 26/11/2011को आपकी यह पोस्टकी हलचल नयी पुरानी हलचल पर हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जितनी देर होगी,भरपाई उतनी मुश्किल।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर बात कही आपने
    उगाओ वन,
    हो सके तो बचा
    लो पर्यावरण बधाई ...
    नई पोस्ट में आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  10. पर्यावरण को बचाना ही होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  11. acchi sandesh deti rachana hai....
    hame koi bhi kaam paryavaran ko dhyan me rakh kar karana chahiye..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुमूल्य आवाहन... सार्थक रचना...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  13. अति उत्तम रचना …………पर्यावरण को बचाने के लिये अब मानव को ये कदम उठाने ही पडेंगे आपने मानवीय भूलों को बहुत ही सुन्दरता से उभारा है…………शानदार रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  14. पर्यावरण के प्रति बेहद संवेदनशील रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. dr.saheb aapaki samyik rachana,zaroori v mahati zaroorat hai.yadi humne ped na bachaye to khud khatm ho jayege.

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छा सन्देश दिया है आपने आपका आभार यदि हर व्यक्ति सिर्फ एक पेड लगाये तो भी धरा हरी भरी हो सकती एक अंकुर मैं भी बड़ी क्षमता
    होती है

    वो है नन्हा सा बीज मगर
    एक नए सृजन का दम भरता
    बस दो पत्तों को संग लेकर
    वो जीवन की रचना करता
    आकार भले हो लघु उसका
    पर लघुता मैं भी है प्रभुता

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails