"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 7 सितंबर 2012

"जानिए खटीमा को" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


खटीमा यों तो एक बहुत पुरानी बस्ती है। यह आदिवासी क्षेत्र है।
(चित्र में थारू समाज के लोगों की पारम्परिक वेष-भूषा)
मुगलों के शासनकाल में इसे थारू जन-जाति के लोगों ने आबाद किया था। अर्थात् यहाँ के मूल निवासी महाराणा प्रताप के वंशज राणा-थारू है।
थारू समाज के एक व्यक्ति से मैंने इस जन-जाति के विकास के बारे में पूछा तो उसने मुझे कुछ यों समझाया।
‘‘जिस समय महाराणा प्रताप स्वर्गवासी हो गये थे। तब बहुत सी राजपूत रानियों ने सती होकर अपने प्राणों की आहुति दे दी थी। लेकिन कुछ महिलायें अपने साथ अपने दास-दासियों को लेकर वहाँ से पलायन कर गये थे । उनमें हमारे पूर्वज भी रहे होंगे। ये तराई के जंगलों में आकर बस गये थे।
’’मैने उससे पूछा- ‘‘इस जगह का नाम खटीमा क्यों पड़ गया?’’
उसने उत्तर दिया-
‘‘उन दिनों यहाँ मलेरिया और काला बुखार का प्रकोप महामारी का विकराल रूप ले लेता था। लोग बीमार हो जाते थे और वो खाट में पड़ कर ही वैद्य के यहाँ जाते थे। इसीलिए इसका नाम खटीमा अर्थात् खाटमा पड़ गया।’’
उसने आगे बताया-
‘‘थारू समाज में विवाह के समय जब बारात जाती है तो वर को रजाई ओढ़ा दी जाती है और खाट पर बैठा कर ही उसकी बारात चढ़ाई जाती है। वैसे आजकल रजाई का स्थान कम्बल ने ले लिया है। इसलिए भी इस जगह को खाटमा अर्थात् खटीमा पुकारा जाता है।’’

(खटीमा में थारू नृत्य का मंचन)
संक्षेप में मुझे इतना ही खटीमा का इतिहास पता लगा है।

6 टिप्‍पणियां:

  1. badhiya jaankari ...
    Achchha laga khatima ke baare me jaan kar ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. संक्षिप्त रोचक सुन्दर जानकारी खटीमा .भारत में आज भी कितने खटीमा हैं जहां काला जार से लोग मर जातें हैं .मच्छर तक नहीं मार सकती ये रिमोटिया सरकार सुना है छत्तीसगढ़ के निजी अस्पताल अब हैदराबाद की एक संस्था चलायेगी .देश चलाने का भी ठेका क्यं नहीं दे देते ये लोग रिमोटियों से तो पिंड छूटेगा .
    शुक्रवार, 7 सितम्बर 2012
    शब्दार्थ ,व्याप्ति और विस्तार :काइरोप्रेक्टिक

    शब्दार्थ ,व्याप्ति और विस्तार :काइरोप्रेक्टिक
    इस स्तंभ "कभी कभार "के तहत चिकित्सा पारिभाषिक शब्दावली का अर्थ और विस्तार (स्कोप )पर विमर्श ज़ारी रहेगा .यह पहली किस्त है .
    काइरोप्रेक्टिक कुदरती स्वास्थ्य संभाल जीविका है जिसके लिए उच्च प्रशिक्षण और शिक्षा दोनों ही ज़रूरी हैं .गत सौ सालों से इसके माहिर हमारे बीच मौजूद हैं .अमरीका में यह वैकल्पिक और प्राकृत चिकित्सा का सबसे बड़ा पेशा है ,वैकल्पिक चिकित्सा की एक ख़ास किस्म है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. khatima के इतिहास के बारे बताने के लिए धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails