"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 8 सितंबर 2012

"दोहे-चलते बने फकीर" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

कालजयी साहित्य दे, चलते बने फकीर।
नहीं डॉक्टर बन सके, तुलसी, सूर कबीर।१।

आगे जिसके नाम के, लगा डॉक्टर होय।
साहित्य के नाम पर, समझो उसे गिलोय।२।

छन्दशास्त्र का है नहीं, जिनको कुछ भी ज्ञान।
वो कविता के क्षेत्र में, पा जाते सम्मान।३।

लिखकर के आलेख को, टुकड़ों में दो काट।
बिना किसी प्रयास के, कविता बने विराट।४।

भूल गये अपनी विधा, चमक-दमक में आज।
जापानी के मोह में, पड़ा प्रबुद्ध समाज।५।

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सटीक और सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोहर हो जापान की, बिके अधिक सामान |
    तांका चोका हाइगा, समझें ना नादान |
    समझें ना नादान, दान नाना करवाए |
    ना ना करते नात, बात अपनी मनवाए |
    रविकर जाता भूल, गीतिका दोहा सोहर |
    जाता है जापान, लगा के आता मोहर ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह शास्त्री जी,,,,आपने तो दोहे के माध्यम से मन की बात कह दी,,,,आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. सारगर्भित दोहे इस शती के विडम्बना विद्रूप छिपाए हुएँ हैं .किस्सा याद आया ,हिंदी विभाग महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय ,रोहतक में एक विस्तार भाषण देने नामवर सिंह जी को बुलाया गया था .इत्तेफाक से हमारे मित्रवर वागीश मेहता जी भी उन दिनों वहीँ थे शोध कार्य के सिलसिले में .हम दोनों ने भी इस कार्यक्रम में शिरकत की .हजारीप्रसाद द्विवेदी जी के शिष्य नामवर जी ने अपने भाषण में ज़िक्र किया -हजारीप्रसाद जी को पंजाब विश्वविद्यालय ,चंडीगढ़ में हिंदी विभाग में प्रोफ़ेसर बनाया गया .सवाल उठा आप पी .एचडी तो क्या विधिवत शिक्षित भी नहीं हैं .......इन नामवरों का बस चले तो कबीर और भक्ति धारा के तमाम संत कवियों को उठाके साहित्यिक कूड़े दान में फैंक दें .मेरा विभाग तो भौतिकी रहा है लेकिन साहित्य के प्रति अनुराग मुझे इन जगहों पे ले जाता रहा है .दिल्ली का हिंदी भवन हो या राजेन्द्र भवन ,इंडिया हेबितात सेंटर हो या इंडिया इंटरनेशनल सेंटर मैं पहुंचता रहा हूँ .नामवर जी और प्रभाष जोशीजी को एक ही मंच से सुना देखा है .जो आंच और नयापन जोशी जी में देखा हिंदी के इन नामचीन लोगों में कभी दिखलाई नहीं दिया .बीसम बीस ट्वेंटी ट्वेंटी मेच के लिए जोशी जी ही इस्तेमाल कर सकते थे ,बर्फ बारी भी (हिमपात की जगह )शब्दों का संधान करते थे जोशी जी और ये लोग ....जाने भी दो ...कोई गुस्ताखी न कर बैठें .

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ..बहुत अच्छा व्यंग ..!

    उत्तर देंहटाएं
  6. छन्दशास्त्र का है नहीं, जिनको कुछ भी ज्ञान।
    वो कविता के क्षेत्र में, पा जाते सम्मान।३।

    लिखकर के आलेख को, टुकड़ों में दो काट।
    बिना किसी प्रयास के, कविता बने विराट।४।

    गज़ब कर दिया शास्त्री जी दोहों के माध्यम से सीधा कटाक्ष किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही उपयोगी सीख..अपना घर पहले देखें..

    उत्तर देंहटाएं
  8. कविताये तो दिल से निकले भावों का क्रमबद्ध अनुरूप होता है!.........फिर भी सोचने पर विवश हो रहा हूँ, की क्या सच में साहित्य का मजाक उड़ा रहे है!......मै अपना आत्म-निरिक्षण अवश्य करूंगा इस तथ्य पर!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. छन्दशास्त्र का है नहीं, जिनको कुछ भी ज्ञान।
    वो कविता के क्षेत्र में, पा जाते सम्मान।
    वाकई आज कि साहित्यिक दुनिया का सच है ये...सुन्दर कटाक्ष और सच का दर्पण..अच्छे और प्रभावशाली दोहें ...बधाई शास्त्री जी..प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थक दोहे, गुड़गाँव प्रवास में रहने के कारण विलम्ब से इस रचना तक पहुँचा हूँ......

    सुंदर रचना के लिये बधाई........


    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails