"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2013

"लगता है बसन्त आया है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


हर्षित होकर राग भ्रमर ने गाया है! 
लगता है बसन्त आया है!!

नयनों में सज उठे सिन्दूरी सपने से,
कानों में बज उठे साज कुछ अपने से,
पुलकित होकर रोम-रोम मुस्काया है!
लगता है बसन्त आया है!!

खेतों ने परिधान बसन्ती पहना है,
आज धरा ने धारा नूतन गहना है,
आम-नीम पर बौर उमड़ आया है!
लगता है बसन्त आया है!!

पेड़ों ने सब पत्र पुराने झाड़ दिये हैं,
बैर-भाव के वस्त्र सुमन ने फाड़ दिये है,
होली की रंगोली ने मन भरमाया  है!
लगता है बसन्त आया है!!

21 टिप्‍पणियां:

  1. होली की रंगोली ने मन भरमाया है!
    लगता है बसन्त आया है..............sundar

    उत्तर देंहटाएं
  2. पत्ता-पत्ता हुआ पल्लवित
    फूलों पर बिखरी है आभा
    बूढ़ा मन भी युवा हो गया
    देख बसंत की माया //

    मन में ख़ुशी का अहसास जगाती सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पेड़ों ने सब पत्र पुराने झाड़ दिये हैं,
    बैर-भाव के वस्त्र सुमन ने फाड़ दिये है,

    वाह !!!!!!!!!!अनुपम........

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर वसंत की आहट...
    फिलहाल तो गरजत-बरसत सावन.... जैसा मौसम हो रहा है! सर्दियों की बरसात.... 'ठंड' फिर से एक झलक दिखलाने आ गयी...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर आहट...अब लग रहा है बसंत आया

    उत्तर देंहटाएं

  7. जी -
    बसन्त आया ही समझिये-
    सादर-
    अभी तो
    यह ओला और बर्फ बारी है -
    भयानक वर्षा हो रही है -
    सादर-

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रेल का किराया बढाया है |
      किश्तों में डीजल ने रुलाया है |
      हाँ, लगता है बसंत आया है-

      बौर-बजट आने वाला है |
      निकलने वाला दिवाला है |
      बेचारा आम,
      देखा-भाला है -
      चिदंबरम मस्ताया है-
      हाँ -
      लगता है बसंत आया है -

      ओला है बारिस है |
      इतनी सी गुजारिश है-
      जिसने भी सताया है-
      उसका बस-अन्त आया है-
      हाँ लगता है बस........



      हटाएं
  8. हर्षित होकर राग भ्रमर ने गाया है!
    लगता है बसन्त आया है!!bahot sunder.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर ... बसंत के आगमन पर सुंदर रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह,,,,बसंत के आगमन पर अनुपम प्रस्तुति,,,,,

    प्रकृति पालकी पर चढकर,देखो ये मधुमास आ गया!
    विदा हुआ हेमंत आज पर सबमें बसंती रंग छा गया!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. पेड़ों ने सब पत्र पुराने झाड़ दिये हैं,
    बैर-भाव के वस्त्र सुमन ने फाड़ दिये है,
    होली की रंगोली ने मन भरमाया है!
    लगता है बसन्त आया है!!

    आपकी रचना ने तो बसंत को जीवन्त कर दिया

    उत्तर देंहटाएं

  12. बंसत की सुहानी ऋतु देख
    इंद्र का मन हर्षाया है
    शायद इसीलिए इंद्रदेव ने
    जमकर पानी बरसाया है...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (06-02-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  14. बसन्त के आने की आहट आपकी रचनाओं में स्पष्ट नजर आ रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी रचना उत्तम, लगता है बसन्‍त आया है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. हे बसन्त, स्वागत है *******^^^^^^^^************"खेतों ने परिधान बसन्ती पहना है,
    आज धरा ने धारा नूतन गहना है,
    आम-नीम पर बौर उमड़ आया है!
    लगता है बसन्त आया है!!

    पेड़ों ने सब पत्र पुराने झाड़ दिये हैं,
    बैर-भाव के वस्त्र सुमन ने फाड़ दिये है,
    होली की रंगोली ने मन भरमाया है!
    लगता है बसन्त आया है!!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails