"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 6 फ़रवरी 2013

"पढ़ लेते हैं सारी भाषा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


आशा और निराशा की जो,
पढ़ लेते हैं सारी भाषा।
दो नयनों में ही होती हैं,
सारी दुनिया की परिभाषा।।

दुख के बादल आते ही ये,
खारे जल को हैं बरसाते।
सुख का जब अनुभव होता है,
तब ये फूले नहीं समाते।
सरल बहुत हैं-चंचल भी हैं,
इनके भीतर भरी पिपासा।
दो नयनों में ही होती हैं,
सारी दुनिया की परिभाषा।।

कुछ में होती है खुद्दारी,
कुछ में होती है मक्कारी।
कुछ ऐसी भी आँखें होती,
जिनमें होती है गद्दारी।
ऐसी बे-ग़ैरत आँखों से,
मन में होती बहुत हताशा।
दो नयनों में ही होती हैं,
सारी दुनिया की परिभाषा।।

दुनिया भर की सरिताओं का,
इसमें आकर पानी ठहरा।
लहर-लहरकर लहरें उठतीं,
ये भावों का सागर गहरा।
बिन आँखों के जग सूना है,
ये जीवन की हैं अभिलाषा।
दो नयनों में ही होती हैं,
सारी दुनिया की परिभाषा।।

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर ! एक खूबसूरत सच्चाई का अति सुन्दर चित्रण !
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. नयनों के गुण और अवगुण की बेजोड़ परिभाषा बयां की है आपने, बहुत ही सुन्दर दिल को छूती प्रस्तुति, हार्दिक बधाई स्वीकारें सर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरल बहुत हैं-चंचल भी हैं,
    इनके भीतर भरी पिपासा।
    दो नयनों में ही होती हैं,
    सारी दुनिया की परिभाषा।।

    वाह वाह वाह बहुत खूबसूरत परिभाषा गुनी है ………बधाई

    उत्तर देंहटाएं

  4. आँखों की भाषा -
    सर्वोत्तम-
    चूक की गुंजाइश नहीं -
    भाषांतर एकदम सटीक -
    आभाए गुरु जी ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर वर्णन....नयनो का बधाई हो

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर दिल को छूती अभिव्यक्ति,,,,

    नयनों में जब होतीं बातें, क्या समझोगे ऎसी बातें
    हर भाषा में होतीं बातें, कुछ सच्ची कुछ झूठी बातें
    हार की बातें जीत की बातें, गीत और संगीत की बातें
    ज्ञान और विज्ञान की बातें, हर मौसम पर करते बातें

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर रचना .... आँखें सारा भेद खोल देती हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आँखे तो दिल की आईना होती है,दिल में क्या चल रहा है आँखों में पढ़ा जा सकता है,बहुत ही सुंदर परिभाषा सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. नैनों की भाव और भाषा का बढ़िया प्रक्षेपण हुआ है इस गीत में .

    उत्तर देंहटाएं
  10. आँखों से भावों की वर्षा,
    हम बस देखें, लूट रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही खूबसूरत प्रस्तुति शानदार वाह

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह .. .बहुत ही अनुपम भाव लिये उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आँखों की कहानी आँखों की जुबानी ...
    लाजवाब प्रस्तुति ... नमस्कार शास्त्री जी ...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails