"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 20 जनवरी 2010

""शारदे जग का करो उद्धार!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

बन्द ना हो जायें माँ के द्वार!

वर दे वीणा वादिनी, वर दे ...


बसन्त पञ्चमी की हार्दिक बधाई !

बन्द ना हो जायें माँ के द्वार!
वन्दना करता हूँ मैं शत् बार!!

मन में मेरे ज्ञान का प्रकाश कर दो,
हृदय में मेरे नवल विश्वास भर दो,
पुष्प-अक्षत माँ करो स्वीकार!
वन्दना करता हूँ मैं शत् बार!!

लेखनी में रम रहा माता तुम्हारा नाम है,
शब्द-रचना और स्रजन माता तुम्हारा काम है,
गीत में भर दो विमल रसधार!
वन्दना करता हूँ मैं शत् बार!!

विश्व से अज्ञान, जड़ता दूर हो,
मन्दिरों में रौशनी भरपूर हो,
शारदे जग का करो उद्धार!
वन्दना करता हूँ मैं शत् बार!!

15 टिप्‍पणियां:

  1. आपको बसंत पंचमी की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर शब्दों के साथ ....सुंदर कविता....

    आपको बसंत पंचमी की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. maa ko hardik abhinandan..........maa ki bahut hi sundar vandana ki hai............shukriya.

    maa tam ko door karo
    jevan roshan kar do
    mere hridyangan mein
    apni jyoti bhar do

    उत्तर देंहटाएं
  4. विश्व से अज्ञान, जड़ता दूर हो,
    मन्दिरों में रौशनी भरपूर हो,
    शारदे जग का करो उद्धार!
    वन्दना करता हूँ मैं शत् बार!!

    आपको वसंत पंचमी की शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको और आपके परिवार को बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें!
    बहुत सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको वसंत पंचमी की शुभकामनाएं!
    आपकी ये रचना पढ कर अपने मिडिल स्कूल में किये जानेवाला प्रार्थना याद आ गया ...
    मां शारदे! कहां तू वीणा बजा रही है!
    किस मंजु गान से तू जग को लुभा रही है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर गीत. बसंत पंचमी की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर वंदना!
    --
    "सरस्वती माता का सबको वरदान मिले,
    वासंती फूलों-सा सबका मन आज खिले!
    खिलकर सब मुस्काएँ, सब सबके मन भाएँ!"

    --
    क्यों हम सब पूजा करते हैं, सरस्वती माता की?
    लगी झूमने खेतों में, कोहरे में भोर हुई!
    --
    संपादक : सरस पायस

    उत्तर देंहटाएं
  9. "सुंदर कविता....सुंदर शब्दों के साथ "

    आपको बसंत पंचमी की शुभकामनाएं।

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमारा भी नमन, बसंत पंचमी की शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  11. शास्त्री जी, आपको भी मदनोत्सव की शुभकामनाऎँ!!!!!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails