"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 19 जुलाई 2010

“हमने झूला झूला!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

parrot
मानसून का मौसम आया,
तन से बहे पसीना!
भरी हुई है उमस हवा में,
जिसने सुख है छीना!!

कुल्फी बहुत सुहाती हमको,
भाती है ठण्डाई!
दूध गरम ना अच्छा लगता,
शीतल सुखद मलाई!!

पंखा झलकर हाथ थके जब,
हमने झूला झूला!
ठण्डी-ठण्डी हवा लगी तब,
मन खुशियों से फूला!! 

14 टिप्‍पणियां:

  1. sahi hai sir..mausam ke mijaj ne man khush kar diya...aur rachna bhi fuli nahi sma rahi :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बचपन याद आ गया…………………ऐसे ही बहुत झूला झूला है………………कोई लौटा दे मेरे बीते हुये दिन्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उमस भरी गर्मी में ठंडी ठंडी चीजें बहुत अच्छी लगती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. गर्मी का कुछ तो उपाय करना ही होगा.
    सुन्दर गीत

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुह मे पानी तो मेरे भी आ गया पर ये मौसम अब कुलफी नही खाने देगा...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शास्त्री जी नमस्कार.... व्यस्त रहने की वजह से कमेन्ट नहीं कर पाने के लिए माफ़ी चाहता हूँ... प्रस्तुत रचना बहुत अच्छी लगी...

    --
    www.lekhnee.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिंदी ब्लॉग लेखकों के लिए खुशखबरी -


    "हमारीवाणी.कॉम" का घूँघट उठ चूका है और इसके साथ ही अस्थाई feed cluster संकलक को बंद कर दिया गया है. हमारीवाणी.कॉम पर कुछ तकनीकी कार्य अभी भी चल रहे हैं, इसलिए अभी इसके पूरे फीचर्स उपलब्ध नहीं है, आशा है यह भी जल्द पूरे कर लिए जाएँगे.

    पिछले 10-12 दिनों से जिन लोगो की ID बनाई गई थी वह अपनी प्रोफाइल में लोगिन कर के संशोधन कर सकते हैं. कुछ प्रोफाइल के फोटो हमारीवाणी टीम ने अपलोड.......

    अधिक पढने के लिए चटका (click) लगाएं




    हमारीवाणी.कॉम

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर गीत, ओर सुंदर सुंदर फ़ोटो जी. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails