"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 10 अगस्त 2010

“अपना पुराना गीत सुनने का मन है” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)


मेरे पति 
ने
बारिश शुरू होने पर,
"बादल" शीर्षक से यह गीत लिखा था।
इसे मैं अपनी आवाज में
प्रस्तुत कर रही हूँ-
श्रीमती अमर भारती

बड़ी हसरत दिलों में थी, गगन में छा गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।
 
गरज के साथ आयें हैं, बरस कर आज जायेंगे,
सुहानी चल रही पुरवा, सभी को भा गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।
 
धरा में जो दरारें थी, मिटी बारिश की बून्दों से,
किसानों के मुखौटो पर, खुशी चमका गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।
 
पवन में मस्त होकर, धान लहराते फुहारों में,
पहाड़ों से उतर कर, मेह को बरसा गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।

19 टिप्‍पणियां:

  1. धरा में जो दरारें थी, मिटी बारिश की बून्दों से,
    किसानों के मुखौटो पर, खुशी चमका गये बादल।
    अहा!
    अभी तो बस इतना ही!
    ये प्रथम प्रतिकिया है।
    अंतिम नहीं।
    अभी भींगने दीजिए आपके गीत के फुहारों में। जब गीलापन हट जाएगा तो फिर आऊंगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह!! भाभी जी आवाज में सुनकर आनन्द आ गया...उनको बधाई दिजिये...चलिए थोड़ी बहुत लिखने के लिए आप भी ले ही लिजिये. :)

    बहुत उम्दा!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाभीजी की मधुर अजाज़ सुनकर बेहद अच्छा लगा! अत्यंत सुन्दर प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut achhi peshkash...
    Meri Nai Kavita padne ke liye jaroor aaye..
    aapke comments ke intzaar mein...

    A Silent Silence : Khaamosh si ik Pyaas

    उत्तर देंहटाएं
  5. भारती जी की आवाज़ ने तो आपकी कविता मे चार चाँद लगा दिये………………बहुत ही मधुर आवाज़ है……………बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे वाह क्या मधुर आवाज़ है ...मजा आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बड़ी हसरत दिलों में थी, गगन में छा गये बादल।
    हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।
    ...बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस सामयिक गीत को सुनकर आनंद आ गया शास्त्री जी, हार्दिक आभार।
    ---------
    क्या ज़हरीले सांप की पहचान सम्भव है?

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस सामयिक गीत को सुनकर आनंद आ गया शास्त्री जी, हार्दिक आभार।
    ---------
    क्या ज़हरीले सांप की पहचान सम्भव है?

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिल से गाया है । बहुत ही मधुर आवाज़ है|बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर गीत मधुर आवाज के संग और सुमधुर होगया. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बड़ी हसरत दिलों में थी, गगन में छा गये बादल।
    हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।
    बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह ...गीत बहुत सुन्दर और आवाज़ ने कितना मधुर बना दिया है ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. भाभीजी की मधुर अजाज़ सुनकर बेहद अच्छा लगा! अत्यंत सुन्दर प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails