"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 12 अगस्त 2010

मेरे प्यारे वतन (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

स्वाधीनता-दिवस पर यह
गीत लिखा था।
इसे मैं अपनी आवाज में
प्रस्तुत कर रही हूँ-
श्रीमती अमर भारती 

मेरे प्यारे वतन, जग से न्यारे वतन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।


अपने पावों को रुकने न दूँगा कहीं,
मैं तिरंगे को झुकने न दूँगा कहीं,
तुझपे कुर्बान कर दूँगा मैं जानो तन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।

जन्म पाया यहाँ, अन्न खाया यहाँ,
सुर सजाया यहाँ, गीत गाया यहाँ,

नेक-नीयत से जल से किया आचमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।


तेरी गोदी में पल कर बड़ा मैं हुआ,
तेरी माटी में चल कर खड़ा मैं हुआ,
मैं तो इक फूल हूँ तू है मेरा चमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।


स्वप्न स्वाधीनता का सजाये हुए,
लाखों बलिदान माता के जाये हुए,
कोटि-कोटि हैं उनको हमारे नमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।


जश्ने आजादी आती रहे हर बरस,
कौम खुशियाँ मनाती रहे हर बरस,
देश-दुनिया में हो बस अमन ही अमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद सुंदर अनुभूति और जज्बातों से भरा देश भक्ति गीत जिसमे जन जन कि आवाज प्रत्बिम्बित है. एक श्रेष्ठ अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उम्दा पठन..गायन और गीत!! देश भक्ति से ओत प्रोत!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर गीत .. बहुत अच्‍छी प्रस्‍तुति !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर देश भक्ति से ओत प्रोत गीत ...और मधुर गायन

    उत्तर देंहटाएं
  5. Jitani sundar rachana utana hi sundar gayan...bhavpurn abhivyakti.
    Dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं
  6. देशभक्ति पर ये गीत बहुत सुन्दर लगा और साथ ही मधुर कंठ में गाया हुआ गीत मन मोह लिया ! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  7. देश भक्ति से ओत प्रोत गीत ने भारती जी की आवाज़ के साथ मन मोह लिया।

    उत्तर देंहटाएं
  8. देश-दुनिया में हो बस अमन ही अमन।

    बहुत खूब !!

    आज़ादी की वर्षगांठ एक दर्द और गांठ का भी स्मरण कराती है ..आयें अवश्य पढ़ें
    विभाजन की ६३ वीं बरसी पर आर्तनाद :कलश से यूँ गुज़रकर जब अज़ान हैं पुकारती
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_12.html

    उत्तर देंहटाएं
  9. मै आप दोनों को नमन करता हूं
    दिल गदगद हो गया है

    उत्तर देंहटाएं
  10. Shastri ji desh bhakti se paripurn aapke dwara rachit kavita smt.bharti ji ke kanth se sunkar bahut achcha laga.aap dono ko naman.

    उत्तर देंहटाएं
  11. Desh-bhakti se ot-prot geet badhiya lagaa , sun nahi paaye ,ye malaal hai , badhaaee aapko geet ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिल गार्डन-गार्डन हो गया. दोनों को बहुत-बहुत बधाई और सभी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की बहुत शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  13. मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।
    Jai Hind

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails