"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 11 अगस्त 2010

“दोहावली” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

(1)
गौतम, गांधी, बोस की, हैं सच्ची तस्वीर।
नन्हे सुमन जगायेंगे, भारत की तकदीर।।
(2)
बेरंग होने में सदा, आता है आनन्द।
झंझावातो में भला, किसे सुहाते रंग।।  
(3)
हँसने से कट जायंगे, सारे दिल के रोग।
तन-मन को भोजन मिले, काया रहे निरोग।। 
(4) 
धन के स्वामी हो गये, अपने धन के दास। 
लोग पुरातन सभ्यता, का कर रहे विनाश।। 
(5)
कैसे तुम्हें भुलाउँगा,ओ मेरे मनमीत।
प्रतिदिन तेरी याद में, मैं लिखता हूँ गीत।।  
(6)
भोले पक्षी छिप गये, खुले घूमते बाज़।
पढ़े-लिखे नौकर हुए, आया जंगल राज।। 
(7)
गुलशन माली का रहा, युगों-युगों से संग।
बिन माली के वाटिका, हो जाती बेरंग।।

15 टिप्‍पणियां:

  1. हँसने से कट जायंगे, सारे दिल के रोग।
    तन-मन को भोजन मिले, काया रहे निरोग।।
    बिल्कुल सही कहा है आपने! सभी दोहें एक से बढ़कर एक है! शानदार पोस्ट!

    उत्तर देंहटाएं
  2. शास्‍त्रीजी, सारे ही दोहे श्रेष्‍ठ बन पड़े हैं बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. sabhi achey hain lekin mujhe ye sab se acha laga..

    भोले पक्षी छिप गये, खुले घूमते बाज़।
    पढ़े-लिखे नौकर हुए, आया जंगल राज।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कैसे तुम्हें भुलाउँगा,ओ मेरे मनमीत।
    प्रतिदिन तेरी याद में, मैं लिखता हूँ गीत।।
    ...tabhi itni mithaas hai... :)
    sabhi dohe kamal ke hai!

    उत्तर देंहटाएं
  5. aapke har dohe kabiletaarif hain..jitani prashashaa ki jaaye kam hogi.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सारे ही दोहे लाजवाब्…………………एक से बढकर एक हैं………………और ये काबिलियत सिर्फ़ आपमे ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. भोले पक्षी छिप गये, खुले घूमते बाज़।
    पढ़े-लिखे नौकर हुए, आया जंगल राज।।

    वाह, बहुत खूब शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  8. श्रेष्ठतम, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. धन के स्वामी हो गये, अपने धन के दास।
    लोग पुरातन सभ्यता, का कर रहे विनाश।।

    भोले पक्षी छिप गये, खुले घूमते बाज़।
    पढ़े-लिखे नौकर हुए, आया जंगल राज।।
    वाह लाजवाब दोहे हैं बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर दोहे लगे जी, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. हँसने से कट जायंगे, सारे दिल के रोग।
    तन-मन को भोजन मिले, काया रहे निरोग।।
    Sahi siksha...sundar dohe
    Aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  12. बड़ी सुन्दर सुन्दर लड़ियाँ पिरो लायें हैं आप।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails