"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 23 अगस्त 2010

“मैंने बहुत निभाया उनको” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

डायरी के पुराने पन्नों से

कितना समय व्यतीत हो गया,
समझ नही पाया मैं उनको।
निभा नही पाये वो मुझको,
मैंने बहुत निभाया उनको।।

चमकीले खोटे सिक्के को
मैंने उपयोगी जाना था,
बिन जाने और पहचाने ही,
अपना सहयोगी माना था,
मेहनत से जो कुछ उपजाया,
मैंने वही खिलाया उनको।
निभा नही पाये वो मुझको,
मैंने बहुत निभाया उनको।।

शर्तों की राहों पर चलकर,
मैंने माना अनुबन्धों को,
मक्कारी से पंखा झलकर,
उसने तोड़ा सम्बन्धों को,
जब-जब भी दुत्कारा मुझको,
मैंने था अपनाया उनको।
निभा नही पाये वो मुझको,
मैंने बहुत निभाया उनको।।

जब भी डगमग पग होते थे,
मैं देता था उन्हें सहारा,
मैं दुखमोचन बन जाता था,
जब भी उसने मुझे पुकारा,
पथ पर संभल-संभलकर चलना, 
मैंने ही सिखलाया उनको।
निभा नही पाये वो मुझको,
मैंने बहुत निभाया उनको।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर रचना...
    रक्षाबंधन पर पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाये.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अति विशिष्ट गहन रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितने मीठे लगे हैं न पुराणी डायरी के कुछ पन्ने.
    अच्छा कविता बन पढ़ है

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक बेहद उम्दा रचना...

    रक्षाबंधन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाये!

    उत्तर देंहटाएं
  5. चमकीले खोटे सिक्के को
    मैंने उपयोगी जाना था,
    बिन जाने और पहचाने ही,
    अपना सहयोगी माना था,
    कविता का पूरा स्वर आशामूलक है।
    डायरी के पुराने पन्नों को पलटते रहें...

    उत्तर देंहटाएं
  6. निभा नही पाये वो मुझको,
    मैंने बहुत निभाया उनको.nice

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर रचना...
    रक्षाबंधन पर पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाये.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हृदय से निकली अभिव्‍यक्ति, धन्‍यवाद शास्‍त्री जी.
    शुभकामनांए.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने!
    रक्षाबंधन पर हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहद शानदार कविता………………रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर रचना...
    रक्षाबंधन पर पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाये.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. मन के भावों को विनम्रता से प्रस्तुत किया है ..बहुत अच्छी प्रस्तुति ...रक्षाबंधन की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  14. कहीं किसी अपने से गहरी चोट खाई है ..ऐसा लगता है. वेदना उभर आई है रचना में.
    ---------------------------
    रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  15. गहन हताशा और दुःख बोध पर तिरती रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  16. रक्षा बंधन पर हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  17. कितना समय व्यतीत हो गया,
    समझ नही पाया मैं उनको।
    निभा नही पाये वो मुझको,
    मैंने बहुत निभाया उनको।।

    kya kuch nahi kahati aapki kavita.aapki yeh rachna...kya kahoon shabd nahi hain itne taarif ke liye...really gr8..gr8...gr8...

    उत्तर देंहटाएं
  18. कितना समय व्यतीत हो गया,
    समझ नही पाया मैं उनको।
    निभा नही पाये वो मुझको,
    मैंने बहुत निभाया उनको ...

    वह .. बहुत गहरे ज़ज्बात पिरोय है इस रचना में ....
    नमस्कार शास्त्री जी .....

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails