"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 27 अगस्त 2010

“मैं कब-कब पागल होता हूँ?” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

जब मन्दिर-मस्जिद जलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।
जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।

त्योहारों की परम्परा में, जो मज़हब को लाये,
दंगों के शोलों में, जम कर घासलेट छिड़काये,
जब भाषण आग उगलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।
जब जूते-चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।

कूड़ा-कचरा बीन-बीन जो, रोजी कमा रहे हैं,
पढ़ने-लिखने की आयु में, जीवन गँवा रहे हैं,
जब भोले बचपन ढलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।
जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।

दर्द-दर्द है जिसको होता, वो ही उसको जाने,
जिसको कभी नही होता, वो क्या उसको पहचाने,
जब सर्प बाँह में पलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।
जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर रचना ... आज के हालात् को बयां करते हुए...

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब सर्प बाँह में पलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।
    जब जूते - चप्पल चलते हैं, मैं तब-तब पागल होता हूँ।।

    कमाल का लिखा है !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज के हालत को बयान करती सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दर्द-दर्द है जिसको होता, वो ही उसको जाने,
    जिसको कभी नही होता, वो क्या उसको पहचाने,
    sahii,saundar rachana

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत संवेदनशील अभिव्यक्ति ...अब जूते चप्पलों का नज़ारा तो आम बात होती जा रही है ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. दर्द-दर्द है जिसको होता, वो ही उसको जाने,
    जिसको कभी नही होता, वो क्या उसको पहचाने,

    सत्य वचन शास्त्री जी!! बेहतरीन अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैं भी हो जाता हूं लेकिन गंजे को नाखून नहीं मिलते...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच कहा………………ऐसे हालातों से सभी पागल होते हैं मगर उन पर बस नही चल पाता और खुद को असहाय महसूस करके पागल होने के सिवा और कोई चारा भी तो नही बचता………………आज तो आपने हर दिल का हाल कह दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  9. main tab tab paagal hota hoon....maja aa gaya padh kar.aantrik rosh ko kis khoobsurti se vyakt kiya hai aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  10. शास्त्री जी
    प्रणाम
    सच तो यह है कि हर अच्छा आदमी गलती से आस्तीन वाली कमीज पहनने पर यकीन रखता है और उसी में सांप पल जाते हैं, लेकिन यह भी उतनी ही बड़ी हकीकत है कि समझदार आदमी को गदहे और कुत्ते को हरकतों पर पागल नहीं होना चाहिए।
    हां... आपसे छोटा होने के बाद भी आपको एक सलाह देने की धृष्टता कर रहा हूं और वह यह कि जो सांप आस्तीन में पले और हाथ में पकड़ जाए उसके फन को जूते से मसल डालिए.
    शोले फिल्म का यह संवाद याद रखिए- गब्बर सांपों को हाथों से नहीं पैरों से मसला जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. गदहे और कुत्तों की हरकतों पर
    (सुधार लें)

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails